इजरायल-हमास की लड़ाई पर भारत ने शुरू किया ये ऑपरेशन, 10 पॉइंट्स में समझिए

0

नई दिल्ली: इजरायल-हमास में जब से लड़ाई छिड़ी है, वहां रहने वाले भारतीयों की चिंता बढ़ गई है। इस घटनाक्रम पर पहली प्रतिक्रिया के तौर पर भारत सरकार ने ‘ऑपरेशन अजय’ शुरू किया है। इसके जरिए इजरायल में फंसे भारतीय नागरिकों को स्वदेश लाया जाएगा। सरकार ने 24 घंटे तक ऐक्टिव रहने वाला कंट्रोल रूम भी बनाया है। हालात पर पैनी नजर रखी जा रही है। इजरायल में इस समय करीब 18,000 भारतीय रहते हैं। गाजा में इजरायल बड़े पैमाने पर बमबारी कर रहा है। अमेरिका समेत कई देश खुलकर इजरायल का सपोर्ट कर रहे हैं। लेबनान से भी तनाव बढ़ने की आशंका जताई गई है। मुस्लिम देश गाजा के सपोर्ट में खड़े दिख रहे हैं। इस बीच गाजा में बिजली आपूर्ति पूरी तरह से बंद कर दी गई है। पूरे इलाके को इजरायली सैनिकों ने घरे रखा है। अब तक 3000 लोगों की मौत हो चुकी है और हजारों लोग घायल हुए हैं।

इजरायल से भारतीयों को निकालने के अभियान के बारे में 10 पॉइंट्स में समझिए।
इस ऑपरेशन में क्या-क्या होगा
1. भारत ने इजरायल से स्वदेश वापस आने की इच्छा रखने वाले भारतीयों की वापसी सुनिश्चित करने के लिए ‘ऑपरेशन अजय’ शुरू किया है। हमास आतंकियों और इजरायल के बीच 6 दिन से लड़ाई चल रही है।

2. विदेश मंत्री जयशंकर ने सोशल मीडिया ‘एक्स’ पर पोस्ट किया, ‘इजरायल से लौटने के इच्छुक हमारे नागरिकों की वापसी के लिए ‘ऑपरेशन अजय’ शुरू कर रहे हैं।’ वैसे, जयशंकर इस समय श्रीलंका की यात्रा पर हैं। उन्होंने कहा कि विशेष चार्टर उड़ानों का प्रबंध और दूसरी व्यवस्थाएं की जा रही हैं।

3. भारतीयों के पहले जत्थे को बृहस्पतिवार को एक विशेष उड़ान के जरिए इजरायल से वापस लाए जाने की उम्मीद है।

4. इजरायल में भारतीय दूतावास ने जयशंकर की घोषणा के तुरंत बाद कहा कि उसने बृहस्पतिवार को विशेष उड़ान के लिए पंजीकृत भारतीय नागरिकों के पहले जत्थे को ई-मेल भेज दिया है। आगे की उड़ानों के लिए अन्य पंजीकृत लोगों को संदेश भेजे जाएंगे।

5. कुछ दिन पहले इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू से बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने वहां मौजूद भारतीयों की सुरक्षा पर चिंता जताई थी।

क्या भारत को नुकसान होगा?
6. हमास के इजरायल पर रॉकेट हमले के फौरन बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने आतंकी हमले की निंदा करते हुए हर तरह के आतंकवाद की निंदा की थी।

7. आशंका इस बात की जताई जा रही है कि तनाव बढ़ने पर पूरे क्षेत्र में अशांति फैल सकती है। इससे भारत के लिए ऊर्जा सप्लाई प्रभावित हो सकती है। दूसरी बड़ी चिंता विशाल भारतीय समुदाय है, जो वहां रहता है।

8. वैसे, भारत इजरायल, यूएई, अमेरिका सभी से संबंध मजबूत रखना चाहता है। अगर तनाव बढ़ता है तो हाल में लॉन्च की गई भारत-मिडिल ईस्ट यूरोक इकोनॉमिक कॉरिडोर भी प्रभावित हो सकता है।

9. यह लड़ाई ऐसे समय में छिड़ी है जब गल्फ देश इजरायल से संबंधों को सामान्य बनाने के इच्छुक दिख रहे थे।

10. बहरीन में भारतीय राजदूत रहे मोहन कुमार का कहना है कि इस संघर्ष से भारत के हितों के दीर्घकालिक रूप में प्रभावित होने की संभावना नहीं है। यह I2U2 देशों (India, Israel, UAE and US) के बीच सहयोग को भी मजबूत कर सकता है। बुनियादी ढांचे पर आधारित IMEC (इकोनॉमिक कॉरिडोर) जरूर प्रभावित हो सकता है लेकिन समस्याएं ज्यादा कठिन नहीं होंगी। भारत आतंकवाद से पीड़ित रहा है। ऐसे में हमास के हमले की उसकी निंदा भी उस भावना के अनुरूप है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed