जापान में भूकंप से मरने वालों की संख्या 24 पहुंची, जीवित लोगों के लिए खोज अभियान जारी

0

टोक्यो । मध्य जापान और आसपास के इलाकों में रिक्टर पैमाने पर 7.6 तीव्रता वाले शक्तिशाली भूकंपों की श्रृंखला के परिणामस्वरूप मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 24 हो गई है। अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि जीवित बचे लोगों के लिए खोज अभियान जारी है।
समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, सोमवार को इशिकावा प्रान्त में नोटो प्रायद्वीप में उथली गहराई पर भूकंप आए। जापान मौसम विज्ञान एजेंसी (जेएमए) ने आधिकारिक तौर पर इसे 2024 नोटो प्रायद्वीप भूकंप का नाम दिया है। सोमवार से जापान में कम से कम 155 भूकंप आ चुके हैं। वाजिमा शहर प्राधिकरण के अनुसार, पीड़ितों में एक पुरुष किशोर भी शामिल है।
प्रसिद्ध पर्यटक स्थल वाजिमा मॉर्निंग मार्केट के आसपास बड़े पैमाने पर आग लग गई, जिसने लगभग 200 इमारतों को अपनी चपेट में ले लिया। शहर में इमारत ढहने की भी खबरे हैं जिसमें 14 लोगों के दबने की घटनाएँ हुईं। जैसे-जैसे अन्य नगर पालिकाओं के संबंध में अधिक क्षति की रिपोर्ट और फंसे हुए लोगों के बारे में जानकारी आती रही, ढही या क्षतिग्रस्त इमारतों के कारण निगाटा, टोयामा, फुकुई और गिफू प्रान्तों में लोगों के घायल होने की सूचना मिली।
प्रभावित क्षेत्रों में कई आत्मरक्षा बल के जवान तैनात
भूकंप से प्रभावित लोगों के बचाव को समय के खिलाफ लड़ाई बताते हुए प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने मंगलवार को कहा कि सरकार ने पहले ही प्रभावित क्षेत्रों में कई आत्मरक्षा बल के जवानों को भेज दिया है और सहायता प्रदान करना जारी रहेगा। इस बीच, जापान में सभी सुनामी सलाह हटा दी गई हैं, जेएमए ने मंगलवार सुबह अपने नवीनतम अपडेट में कहा। भूकंप के बाद, एजेंसी द्वारा नोटो क्षेत्र के लिए एक बड़ी सुनामी की चेतावनी जारी की गई, जिसमें लोगों से तुरंत वहां से हटने का आग्रह किया गया।
निगाटा, टोयामा, इशिकावा प्रान्तों के लिए भी सुनामी की चेतावनी दी गई थी। कथित तौर पर भूकंप आने के 10 मिनट बाद ही पहली लहरें तट से टकराईं।देश के पश्चिमी तट के कई इलाकों में चार फीट तक की सुनामी लहरें उठीं। मंगलवार को होकुरिकु इलेक्ट्रिक पावर कंपनी के अनुसार, वर्तमान में, इशिकावा प्रान्त में लगभग 45,700 घरों में बिजली नहीं है।
भूकंपीय रूप से सक्रिय देशों में से एक जापान
सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, जापान के सार्वजनिक प्रसारक एनएचके ने कहा कि चार बुलेट ट्रेनें, जिनकी हाई-स्पीड यात्राएं सोमवार को रोक दी गई थीं, उनकी सेवाएँ फिर से शुरू कर दी गई हैं। हाई-स्पीड ट्रेनें टोयामा और कनाज़ावा के केंद्रीय शहरों के बीच फंसी हुई थीं। अधिकारियों ने कहा कि 11 घंटे से अधिक समय तक खड़ी रहने के बाद, दो ट्रेनें मंगलवार सुबह 4 बजे टोयामा स्टेशन पहुंचीं। विपरीत दिशा में यात्रा करने वाली अन्य दो ट्रेनें इशिवाका प्रान्त के कनाज़ावा स्टेशन पर पहुंचीं।
एनएचके ने जापान रेलवे वेस्ट का हवाला देते हुए कहा कि हाई-स्पीड ट्रेनों के अंदर लगभग 1,400 यात्री फंसे हुए थे। तथाकथित प्रशांत रिंग ऑफ फायर पर स्थित होने के कारण, जहां कई टेक्टोनिक प्लेटें मिलती हैं, जापान पृथ्वी पर सबसे अधिक भूकंपीय रूप से सक्रिय देशों में से एक है।
2011 में जापान में आए 9.0 तीव्रता के भूकंप के परिणामस्वरूप सुनामी आई – जिसने देश के उत्तर-पूर्वी तटीय समुदायों को तबाह कर दिया, जिसमें लगभग 18,000 लोग मारे गए और हजारों लोग विस्थापित हुए। उन सुनामी लहरों के कारण फुकुशिमा बिजली संयंत्र में चेरनोबिल के बाद सबसे गंभीर परमाणु दुर्घटना हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *