‘अमेरिकी सहायता पैकेज देने में देरी करता है तो यूक्रेन की रुस के हाथों हार तय’

0

वाशिंगटन । अमेरिका और यूरोपीय देशों को डर है कि अगर अमेरिकी कांग्रेस में सहायता पैकेज देने में देरी होती रही तो यूक्रेन की रूस के हाथों हार तय है। उनका अनुमान है कि इस विवाद का यूक्रेन की रक्षा और दीर्घकालिक संभावनाओं पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। सीएनएन ने एक वरिष्ठ अमेरिकी सैन्य अधिकारी के हवाले से कहा, “हमारे साथ रहने पर सफलता की कोई गारंटी नहीं है, लेकिन हमारे बिना उनका फेल होना तय है।

अमेरिकी समर्थन के बिना यह कैसे सफल हो सकता

यूक्रेन के लिए इस रुकी हुई सैन्य सहायता के केंद्र में यूक्रेन के पूर्व और दक्षिण में चल रहे जवाबी हमले का प्रभाव है, जहां इसकी सेना महत्वपूर्ण प्रगति करने के लिए संघर्ष कर रही है। एक यूरोपीय राजनयिक ने कहा, “अगर आगे के क्षेत्र को लेने और उस पर कब्ज़ा करने पर विचार किया जाए, तो यह देखना कठिन है कि निरंतर अमेरिकी समर्थन के बिना यह कैसे सफल हो सकता है।

यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की वाशिंगटन पहुंचे और राष्ट्रपति जो बाइडेन, स्पीकर माइक जॉनसन और शीर्ष सीनेटरों और कांग्रेसियों से मुलाकात की और अपने देश को सहायता जारी रखने के लिए प्रयास किया। उन्होंने सहायता जारी रखने के लिए सीनेट को संबोधित भी किया।

मानवीय इज़राइल-यूक्रेन सहायता पैकेज पर रोक

रिपब्लिकन कट्टरपंथियों ने बाइडेन के 100 बिलियन डॉलर के संयुक्त सैन्य और मानवीय इज़राइल-यूक्रेन सहायता पैकेज को रोक दिया है, जिसमें इज़राइल को 16 बिलियन डॉलर और यूक्रेन को 61 बिलियन डॉलर की सहायता को नामंजूर करते हुए कहा गया कि धन को अमेरिका के दक्षिणी सीमा पर बेहतर ढंग से लगाया जा सकता है जहां वेनेजुएला और मैक्सिको से अवैध प्रवासियों की भारी आमद है।

अधिकारियों को डर है कि यूक्रेन को अमेरिकी समर्थन में कमी या देरी से उसके सहयोगियों से मिलने वाली सहायता पर भी असर पड़ेगा। शुक्रवार को यूक्रेन को एक बड़ा झटका तब लगा जब हंगरी ने यूरोपीय संघ की आगे की सहायता रोक दी, हालांकि इस मुद्दे पर बातचीत जनवरी में फिर से शुरू होने की उम्मीद है।

रुस को यूक्रेन कितने समय तक रोक सकता

खुफिया एजेंसियां फिलहाल इस बात का आकलन कर रही हैं कि अमेरिका और नाटो की मदद के बिना रूस को कितने समय तक यूक्रेन रोके रख सकता है। एक वरिष्ठ अमेरिकी सैन्य अधिकारी ने भविष्यवाणी की है कि यूक्रेन की हार आने वाले महीनों में तय है। रूस की जीत न केवल यूक्रेन के लिए बुरी खबर होगी, बल्कि यह व्यापक यूरोपीय सुरक्षा के लिए अमेरिका के लिए भी एक बड़ा झटका होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *