लोकसभा चुनाव में जुटी भाजपा, केरल से फूंका चुनावी बिगुल, इन 4 सीटों पर रहेगी नजर

0

नई दिल्‍ली । नए साल पर केरल का दौरा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दक्षिण राज्य से लोकसभा चुनाव का बिगुल बजा दिया है। हालांकि दक्षिण का किला हमेशा से भगवा पार्टी के लिए एक चुनौती रही है, जो कि उसे नहीं तोड़ पाई। लेकिन इस बार पार्टी की ओर से खास रणनीति बनाकर 20 लोकसभा सीट वाले केरल में पूरी ताकत से चुनाव लड़ने का प्लान तैयार किया है। जैसे-जैसे लोकसभा चुनाव 2024 नजदीक आ रहे हैं, भाजपा अपने केरल संकट को तोड़ने और दक्षिणी राज्य में सेंध लगाने की कोशिश में जुट गई है। जहां कभी भी पार्टी ने एक भी लोकसभा सीट नहीं जीती।
त्रिशूर से बीजेपी का चुनावी शंखनाद
पिछले हफ्ते त्रिशूर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रोड शो के बाद महिलाओं की एक विशाल रैली के साथ भगवा पार्टी ने केरल में चुनावी बिगुल बजा दिया। पार्टी के पास अपने प्रतिद्वंद्वियों के लिए संगठनात्मक ताकत नहीं है। ऐसे में भाजपा उन सीटों पर फोकस कर रही है, जिन पर पिछले चुनावों में पार्टी को अच्छा रिस्पॉन्स मिला।
20 में से 4 सीटों पर जीत का भरोसा
दरअसल, केरल की चार सीटें ऐसी हैं, जहां पार्टी ने अतीत में चमक दिखाई है, उनमें शशि थरूर का निर्वाचन क्षेत्र तिरुवनंतपुरम भी शामिल है। ऐसे में बीजेपी ने उन मुट्ठी भर सीटों पर ध्यान केंद्रित करने का विकल्प चुना है, जिन पर पिछले चुनाव में अच्छा प्रदर्शन करते हुए वोट शेयर में इजाफा किया है।
त्रिशूर में लगातार बढ़ रहा वोट प्रतिशत
त्रिशूर एक ऐसा निर्वाचन क्षेत्र है, जहां भाजपा वामपंथियों और कांग्रेस के खिलाफ अपनी संभावनाएं तलाश रही है। 2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा ने अभिनेता से नेता बने सुरेश गोपी को सीट से मैदान में उतारा और 2014 में पार्टी के दिग्गज नेता केपी श्रीसन के 11.15% के मुकाबले 28.2% वोट शेयर हासिल किया, जिससे पता चलता है कि उनकी “स्टार स्थिति” मदद कर सकती है। पार्टी ने अपना वोट शेयर बढ़ाया है।
भाजपा ने संकेत दिया है कि पूर्व राज्यसभा सांसद गोपी त्रिशूर से उनके उम्मीदवार होंगे। मोदी के रोड शो में उनके साथ रहने वाले अभिनेता पर भरोसा करने के अलावा भाजपा को यह भी उम्मीद है कि निर्वाचन क्षेत्र में ईसाइयों का एक बड़ा हिस्सा उनको वोट देगा, खासकर हाल के आउटरीच कार्यक्रमों के बाद।
शशि थरूर के गढ़ में सेंधमारी
एक अन्य संसदीय क्षेत्र जहां भाजपा अपनी संभावनाएं तलाश रही है वह तिरुवनंतपुरम है, जहां कांग्रेस के शशि थरूर लगातार चौथी बार चुनाव जीतने की संभावना रखते हैं। तिरुवनंतपुरम भाजपा के लिए उम्मीद की किरण रही है क्योंकि यह राज्य की 20 लोकसभा सीटों में से एकमात्र सीट है, जहां पार्टी पिछले दो चुनावों में उपविजेता रही है, जिससे सीपीआई (एम) तीसरे स्थान पर पहुंच गई है। इसका सबसे अच्छा प्रदर्शन 2014 में था, जब पार्टी के दिग्गज नेता ओ राजगोपाल, जिन्हें 32.32% वोट मिले थे, थरूर से मामूली अंतर से हार गए, जिन्हें 34.09% वोट मिले थे। 2009 के चुनावों की तुलना में राजगोपाल ने अपने वोट शेयर में 20 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि की थी।
मालूम हो कि राजगोपाल एक लोकप्रिय नेता हैं और संघ परिवार के दायरे के बाहर से वोट हासिल करने में कामयाब रहे, क्योंकि निर्वाचन क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण उच्च वर्ग का हिंदू वोट बैंक है और भाजपा के पास अन्य निर्वाचन क्षेत्रों की तुलना में बेहतर जमीनी स्तर की संरचना है। 2019 में भाजपा के कुम्मनम राजशेखरन ने भी 31% से अधिक वोट हासिल किए, लेकिन फिर से थरूर से हार गए, जिन्हें 41% से अधिक वोट मिले।
पथानामथिट्टा सीट पर फोकस
इसके अलावा अन्य केन्द्र बिन्दुओं पर बात करें तो सबरीमाला विरोध प्रदर्शन के कारण 2019 में भाजपा ने जिस अन्य निर्वाचन क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित किया वह मध्य केरल में पथानामथिट्टा है। कांग्रेस के एंटो एंटनी 2009 से सीट जीत रहे हैं। 2019 में भाजपा ने अपने प्रदेश अध्यक्ष के सुरेंद्रन को मैदान में उतारा, जो विरोध प्रदर्शन में सबसे आगे थे। हालांकि वह तीसरे स्थान पर रहे, लेकिन वह पार्टी का वोट शेयर 2014 के 15.95% से बढ़ाकर 28.97% करने में सफल रहे।
इस निर्वाचन क्षेत्र में लगभग 35% ईसाई मतदाता हैं, जिनमें से बड़ी संख्या गैर-कैथोलिक हैं, जबकि 58% मतदाता हिंदू हैं। हिंदुओं में से 20% उच्चवर्गीय नायर समुदाय से हैं। भाजपा संभवतः वहां ईसाइयों तक पहुंचने की रणनीति बनाएगी। एक संकेत में कि ईसाइयों ने बड़े पैमाने पर अपनी निष्ठा कांग्रेस से वामपंथ के प्रति स्थानांतरित कर दी है, सीपीआई (एम) ने 2021 में पथानामथिट्टा लोकसभा सीट के अंतर्गत आने वाले सभी सात विधानसभा क्षेत्रों में जीत हासिल की थी।
आटिंगल लोकसभा सीट से भी उम्मीद
भाजपा के लिए चौथा केंद्र बिंदु तिरुवनंतपुरम जिले की आटिंगल लोकसभा सीट होगी, जिस पर वामपंथियों का दबदबा था, जब तक कि 2019 में कांग्रेस के अदूर प्रकाश ने उनसे यह सीट नहीं छीन ली। राज्य में भाजपा की महिला चेहरा शोभा सुरेंद्रन ने अट्टिंगल से चुनाव लड़ा और 24.18% वोट हासिल किए। जो कि पांच साल पहले पार्टी को मिले 10.6% से भारी वृद्धि है। भाजपा के मजबूत प्रदर्शन का श्रेय सबरीमाला मुद्दे पर सीपीआई (एम) के खिलाफ हिंदुओं की नाराजगी को दिया गया। इस बार भी भाजपा पिछड़े हिंदू एझावा समुदाय से एक प्रमुख नेता को मैदान में उतार सकती है, जिसे निर्वाचन क्षेत्र में प्रभावशाली माना जाता है। 2019 में तीनों पार्टियों ने एझावा उम्मीदवारों को मैदान में उतारा।
केरल में बढ़ रहा बीजेपी का परिवार, लेकिन जीत नसीब नहीं
बता दें कि केरल में भाजपा ने पिछले कुछ वर्षों में कई प्रमुख नौकरशाहों, अभिनेताओं और खिलाड़ियों को अपने साथ जोड़ा है, जिन्होंने वोट शेयर बढ़ाने में मदद की है, लेकिन चुनाव में जीत पार्टी को नहीं मिली है। इसके अलावा पार्टी राज्य में अपने प्रतिद्वंद्वियों खासकर सीपीआई (एम) की तरह मजबूत जमीनी स्तर का दावा नहीं करती है। भाजपा की सहयोगी धर्म जन सेना का नेतृत्व एझावा समुदाय द्वारा किया जाता है, जो परंपरागत रूप से सीपीआई (एम) के साथ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *