लखनऊ में 56 चार्टर विमानों को उतरने और उड़ान भरने के लिए मंजूरी, 5 राज्यों के 15 एयरपोर्ट पर पार्किंग की व्यवस्था

0

नई दिल्‍ली । अयोध्या (Ayodhya)में 22 जनवरी को होने वाले रामलला प्राण प्रतिष्ठा समारोह (Ramlala life consecration ceremony)का उल्लास जमीन से आसमां (sky)तक है। बड़ी संख्या में अति विशिष्ट अतिथियों (very special guests)के आगमन को देखते हुए एक हजार किमी के दायरे में पांच राज्यों के 15 हवाईअड्डों पर विमान पार्किंग की व्यवस्था की गई है। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के सूत्रों के अनुसार, लखनऊ के साथ कानपुर, प्रयागराज, वाराणसी, कुशीनगर, गोरखपुर, रायबरेली, फुरसतगंज, देहरादून, पटना, गया, देवघर, खजुराहो, भोपाल, इंदौर को विमान पार्किंग के लिए चिह्नित किया गया है। रायबरेली, फुर्सतगंज समेत कुछ अन्य हवाईअड्डों को भी तैयार रहने को कहा गया है।

ड्रॉप एंड मूव नीति पर होगा अमल

अयोध्या के महर्षि वाल्मीकि हवाईअड्डे पर 48 विमानों ने उतरने की अनुमति 21 और 22 जनवरी को मांगी है। पर यहां सिंगल आइल जेट विमानों के लिए महज चार पार्किंग स्थल है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए एक स्लॉट आरक्षित होने की स्थिति में यहां तीन चार्टर विमान की ही पार्किंग संभव है। ऐसे में अयोध्या के साथ लखनऊ में ‘ड्रॉप एंड मूव’ नीति पर अमल होगा। अर्थात, विमान लोगों को ड्रॉप करने के बाद दूसरे किसी हवाईअड्डे पर पार्क होगा।

बाबतपुर में 13 विमानों को अनुमति

वाराणसी के बाबतपुर एयरपोर्ट के एटीसी के अफसरों के अनुसार 32 चार्टर विमानों को रात में पार्क करने की अनुमति मांगी गई थी लेकिन सीमित साधन के कारण 13 को अनुमति दी गई। ये विमान पांच सीटर से लेकर 15 सीटर तक के होंगे। अयोध्या में अतिथियों को छोड़ने के बाद चार्टर विमान रात में पार्क होने यहां पहुंचेंगे। अगले दिन 23 जनवरी को मेहमानो को लेने अयोध्या के महर्षि वाल्मीकि अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट रवाना होंगे।

अन्य हवाईअड्डों पर यह स्थिति रहेगी

गोरखपुर हवाईअड्डे पर 21 और 22 तारीख में 13 विमानों की पार्किंग की अनुमति मांगी गई है। एयरपोर्ट डाइरेक्टर अनिल कुमार द्विवेदी ने बताया कि 13 विमान यहां पार्क होंगे, जो 22 जनवरी को यहां से अयोध्या होते हुए रवाना हो जाएंगे। कुशीनगर एयरपोर्ट पर छह विमान की पार्किंग की अनुमति मांगी गई है पर वहां एएलएस न होने से मौसम के चलते दृश्यता कम होने पर विमान उतर नहीं पाएंगे। इसलिए अभी अनुमति पर संशय है। पटना और गया एयरपोर्ट पर 22 जनवरी को अयोध्या से दो-दो विमान भेजे जाएंगे।

वायु सेना से करना पड़ा अनुरोध

कानपुर एयरपोर्ट पर 21 को चार विमान और 22 जनवरी को सात विमान पार्क करने की अनुमति दी गई है। यह आवेदन नागरिक उड्डयन मंत्रालय को किए गए थे। मुख्यालय के आदेश पर हैंगर आरक्षित किए गए हैं। प्रयागराज एयरपोर्ट पर सिर्फ चार विमान की ही पार्किंग की क्षमता है। इसलिए यहां पर वायु सेना से भी अनुरोध किया गया है कि वह अपने यहां कम से कम तीन विमान की पार्किंग की व्यवस्था करे। एयरपोर्ट निदेशक आरआर पांडेय के मुताबिक फिलहाल यहां 11 विमान खड़े करने के लिए आवेदन मिला है। पटना एयरपोर्ट पर विजिटर्स एंट्री 30 जनवरी तक बंद कर दी गई है। साथ ही एटीसी को भी अतिरिक्त विमानों की आवाजाही को लेकर तैयार रहने को कहा गया है।

कई बड़े उद्योगपतियों के चार्टर विमान भी लखनऊ उतरेंगे

कई बड़े उद्योगपतियों के चार्टर विमान भी लखनऊ में उतर रहे हैं। साथ ही कुछ और नामचीन हस्तियां भी लखनऊ आ रही हैं। इन राज्य अतिथियों की सूची में लक्ष्मी मित्तल, श्रीश्री रविशंकर, एचडीएफसी संस्थापक दीपक पारेख, नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी, गायक कैलाश खेर, जीवीके समूह के डॉ. जीवीके रेड्डी के नाम भी शामिल हैं। इनके अलावा क्रिकेटर अनिल कंबुले और मशहूर गायिका स्वर्गीय लता मंगेशकर के परिवार से जुड़े लोग भी लखनऊ आ रहे हैं। शनिवार को ही बॉलीवुड गायिका अनुरोधा पौडवाल, लेखक-गीतकार और फिल्म प्रमाणन बोर्ड प्रमुख प्रसून जोशी, बॉलीवुड गायक जुबिन नौटियाल, शैलेष लोढ़ा, बाबा बालकनाथ भी शहर में आ चुके हैं। अतिथि एयरपोर्ट से सीधे अयोध्या के लिए रवाना हो गए। कुछ अतिथियों को यहां होटल में ठहराया गया है जो कि बाद में अयोध्या के लिए प्रस्थान करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *