सीट बंटवारे में उलझी इंडिया गठबंधन, आखिर कब तैयार करेंगे रणनीति? कांग्रेस ने बनाया प्लान

0

नई दिल्ली । विपक्षी दलों के गठबंधन INDIA के नेताओं ने हाल ही में दिल्ली में बैठक कर आगामी लोकसभा चुनावों के लिए सीट बंटवारे पर चर्चा शुरू करने की आवश्यकता पर जोर दिया। कांग्रेस के सूत्र बताते हैं कि पार्टी जनवरी के पहले सप्ताह में अपने सहयोगियों के साथ सीट-बंटवारे की बातचीत शुरू करने की योजना बना रही है, क्योंकि विभिन्न साझेदार क्षेत्रीय ताकत के आधार पर रणनीतिक रूप से निर्वाचन क्षेत्रों का आवंटन करना चाहते हैं।

सीट बंटवारे की रणनीति

कांग्रेस का लक्ष्य ऐसी रणनीति अपनाना है, जो किसी विशेष राज्य में महत्वपूर्ण प्रभाव वाले सहयोगियों को अधिक सीटें आवंटित करे। उदाहरण के लिए, उत्तर प्रदेश में अपनी मजबूत उपस्थिति को देखते हुए समाजवादी पार्टी (सपा) को बड़ा हिस्सा मिल सकता है, जबकि कांग्रेस सम्मानजनक प्रतिनिधित्व के लिए बातचीत करेगी। छत्तीसगढ़, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में कांग्रेस को केंद्रीय भूमिका निभाने की उम्मीद है।

दिल्ली और पंजाब में चुनौतियाँ

हालाँकि, कांग्रेस को दिल्ली और पंजाब में संभावित चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, जहां आम आदमी पार्टी (AAP) सत्ता में है। इन राज्यों में कांग्रेस और आप नेताओं के बीच चल रहे विवादों और आपसी आलोचना से सीट-बंटवारे की बातचीत पर असर पड़ सकता है, क्योंकि दोनों पार्टियां सभी उपलब्ध सीटों पर चुनाव लड़ने का इरादा जताती हैं।

पीएम उम्मीदवार का प्रस्ताव

दिल्ली बैठक के दौरान, तृणमूल कांग्रेस (TMC) अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को इंडिया अलायंस के लिए प्रधान मंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में प्रस्तावित किया था। हालाँकि, खड़गे ने कहा कि पीएम उम्मीदवार पर निर्णय चुनाव के बाद किया जाएगा, और पहले पर्याप्त संख्या में सीटें जीतने की आवश्यकता पर बल दिया था।

ममता बनर्जी का विज़न

ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल पर विशेष जोर देते हुए देश भर में भाजपा के खिलाफ इंडिया अलायंस की लड़ाई का नेतृत्व करने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराई। इसके बावजूद, उन्होंने स्पष्ट किया कि तृणमूल कांग्रेस (TMC) फिलहाल आगामी बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए गठबंधन बनाने पर विचार नहीं कर रही है।

जैसा कि इंडिया अलायंस के साझेदार सीट-बंटवारे की बातचीत के लिए तैयार हैं, जटिल बातचीत और रणनीतिक विचार 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले देश के विविध राजनीतिक परिदृश्य को दर्शाते हैं। इन चर्चाओं के नतीजे राष्ट्रीय स्तर पर सत्तारूढ़ भाजपा को चुनौती देने में गठबंधन की ताकत और प्रभावशीलता पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *