एमपी पुलिस की हॉकफोर्स को मिली बड़ी सफलता, 14 लाख के इनामी नक्सली ढेर, साल की तीसरी बड़ी कार्रवाई

0

भोपाल । मध्यप्रदेश पुलिस की हॉकफोर्स को एक और बड़ी सफलता मिली है। हॉकफोर्स ने नक्सल विरोधी अभियान के दौरान गुरुवार को 14 लाख रुपये के इनामी नक्सली मड़काम हिड्मा उर्फ चैतु (32) को मार गिराया। वह ग्राम पोमरा, थाना मिरतुर, बीजापुर (छत्तीगढ़) का रहने वाला था। यह मुठभेड़ बालाघाट जिले के गढ़ी थाना क्षेत्र के सूपखार के खमकोदादर वन क्षेत्र में हुई।

14 लाख रुपये के इनामी नक्सली मारा गया

हिड़मा, एमएमसी (मध्यप्रदेश-महाराष्ट्र-छत्तीसगढ़) जोन की जीआरबी (गोंदिया, राजनांदगांव, बालाघाट) डिविजन के एसजेडसीएम (स्पेशल जोनल कमेटी मेंबर) राजेश उर्फ दामा का विश्वस्त सहयोगी था। हिड़मा पूर्व में माओवादियों की भैरमगढ़ एरिया कमेटी की चेतना नाट्य मंच तथा प्लाटून का सदस्य रहा है। वह पुलिस बल पर हमले की विभिन्न घटनाओं में शामिल रहा है। माओवाद के विस्तार के लिए इसे दो वर्ष पूर्व एमएमसी जोन में भेजे जाने की सूचनाएं आत्मसमर्पित नक्सलियों से पूछताछ में संज्ञान में आई हैं। मृतक के विरुद्ध दर्ज आपराधिक मामलों की विस्तृत जानकारी बस्तर के विभिन्न जिलों से प्राप्त की जा रही हैं। वहीं, मृतक नक्सली हिड़मा का भाई सीतु मड़काम उर्फ सीतु मुचाकी माओवादियों की भैरमगढ़ एरिया कमेटी के अंतर्गत सक्रिय प्लाटून नंबर 13 का डिप्टी कमांडर है।

अभियानों के तहत वर्ष 2023 में तीन बड़ी कार्रवाई

मध्यप्रदेश पुलिस द्वारा प्रदेश के नक्सल प्रभावित जिलों में नक्सल उन्मूलन के लिए चलाए जा रहे नक्सल विरोधी अभियानों के तहत वर्ष 2023 में तीन बड़ी कार्रवाई की गई हैं। इन कार्रवाइयों में हॉकफोर्स ने 2 महिला नक्सलियों सहित 4 हार्डकोर नक्सलियों को धराशायी किया है। इन सभी नक्सलियों पर मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा संयुक्त रूप से 14-14 लाख रुपये का इनाम घोषित था। वर्ष 2023 के अप्रैल में हुई कदला मुठभेड़ में महिला नक्सली सरिता तथा सुनीता, कुंदुल-कोद्दापार जंगल क्षेत्र में सितंबर में हुई नक्सली कमलू को भी धराशायी किया जा चुका है। वहीं 14 दिसंबर को हॉकफोर्स ने हिड़मा को भी धराशायी कर दिया। बता दें कि अगस्त 2023 में मध्यप्रदेश पुलिस ने जबलपुर शहर से नार्थ बस्तर तथा आरकेबी डिविजन की मास संगठन का प्रभारी एसजेडसीएम अशोक रेड्डी उर्फ बलदेव को उसकी पत्नी एसीएम रेमती के साथ गिरफ्तार किया।

5 साल में 17 नक्सली ढेर

छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती जिलों में 5 वर्षों में मुठभेड़ के दौरान 17 हार्डकोर नक्सली मारे गए। इनमें 8 महिला नक्सली भी शामिल हैं। मारे गए नक्सलियों पर मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र सरकार द्वारा संयुक्त रूप से 2.68 करोड़ रुपये का इनाम घोषित था। वहीं 5 वर्षों में 5 नक्सलियों ने आत्म समर्पण भी किया है। वर्ष 2022 में डीवीसी स्तर के दो नक्सलियों के साथ चार अन्य नक्सलियों को भी धराशायी किया गया तथा दो एके 47 राइफल भी जब्त की गई। नक्सलियों के विरुद्ध आक्रामक रणनीति अपनाई गई तथा आसूचना आधारित अभियानों द्वारा टांडा दलम के चार तथा दर्रेकसा दलम के दो, कुल 6 नक्सलियों को धराशायी कर ट्राइ जंक्शन क्षेत्र में नक्सलियों की कमर तोड़ दी गई। मध्यप्रदेश पुलिस के लगातार प्रयासों और अभियानों से नक्सली बैकफुट पर हैं।

हॉक फोर्स ने किया एनकाउंटर

पुलिस ने मुठभेड़ के बाद नक्सली के मारे जाने की पुष्टि की है. मिली जानकारी के अनुसार, यह कार्रवाई बालाघाट जिले के गढ़ी थाना अंतर्गत सूपखार के खमकोदादर जंगल में की गई है. जहां पुलिस और नक्सली के बीच हुए मुठभेड़ में पुलिस ने नक्सली को मार गिराया है. फिलहाल मोतीनाला हॉक फोर्स एसओजी की टीम घटनास्थल पर मौजूद है।

कई वर्षों से जमे हैं नक्सली

आपको बता दें बालाघाट जिले के कान्हा नेशनल पार्क से सटे सूपखार के जंगलों में यह मुठभेड़ हुई है. बीते कुछ वर्षों से नक्सलियों ने इस क्षेत्र को अपना पनाहगार बनाया हुआ है. हालांकि, बालाघाट जिले में हुए लगातार एनकाउंटर के बाद फिलहाल नक्सली बैकफुट पर आ गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *