राज्य में नियमित टीकाकरण के लिए 8.7 लाख शिशुओं और 9.9 लाख गर्भवती महिलाओं को करना है प्रतिरक्षित

 

अपर मुख्य सचिव ने किया नियमित प्रतिरक्षण का राज्य स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक 

RANCHI: नेपाल हाउस, डोरण्डा, राँची में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, झारखण्ड अन्तर्गत नियमित प्रतिरक्षण का राज्य स्तरीय टास्क फोर्स का बैठक का आयोजन किया गया।

बैठक की अध्यक्षता अरूण कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव, स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग, झारखण्ड के द्वारा किया गया।

इस बैठक में प्रतिभागी के रूप में महिला बाल विकास, परिवहन विभाग, पंचायती राज्य विभाग, वन विभाग, गृह विभाग तथा सहयोगी संस्थान के प्रतिनिधियों-डब्लू. एच. ओ., यूनिसेफ, यूएसआईडी, जेएसआई भाग लिया ।
अरूण कुमार सिंह ने कहा कि कार्य का योजना बनाकर ससमय कार्यो को करें।

उन्होने कहा कि इस वितीय वर्ष में राज्य में नियमित टीकाकरण के लिए 8.7 लाख शिशुओं और 9.9 लाख गर्भवती महिलाओं को प्रतिरक्षित करना है।

टीकाकरण से हम 13 टीकों से बचाव योग्य बीमारियों को रोक सकते हैं।

साथ ही साथ इसका प्रचार-प्रसार पर विशेष अभियान चलाकर शतप्रतिशत टीकाकरण करते हुए बच्चों को सुरक्षित करना है।

प्रत्येक बच्चे और गर्भवती महिलाओं को निर्धारित समय के अनुसार टीका लगाना सुनिश्चित किया जाय।

संस्था में जन्मे सभी नवजातों को हेपेटाइटिस-बी बर्थ डोज जन्म के तुरंत बाद लगाना सुनिश्चित किया जाय।

साथ ही प्रत्येक 10 साल और 16 साल के बच्चों के लिए टीडी की एक खुराक दिया जाय। ताकि टेटनस एवं डिपथेरिया बिमारी से बचया जा सके।

वर्तमान में वैक्सीन 5 वैक्सीन से बचाव योग्य बीमारी जैसे- पोलियो, खसरा-रूबेला, डिप्थीरिया, पर्टुसिस और नवजात टेटनस के लिए राज्य द्वारा निगरानी किया जा रहा है।

सभी टीकाकरण से छूटे बच्चा एवं गभवर्ती महिलाओं गृह भ्रमण के माध्यम से चिन्हित करते हुए ससमय टीकाकरण किया जाना है। सभी सहभागी विभागों की भूमिका महत्वपूर्ण है।

हरेक स्तर पर नियमित रुप से अनुश्रवण करते हुए सभी योग्य लाभार्थियों को टीकाकरण सुनिश्चित किया जाए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *