उदयीमान सूर्य को अर्घ्य के साथ आस्था के महापर्व छठ का समापन

RANCHI:   राजधानी रांची में सोमवार को छठ व्रतियों और श्रद्धालुओं ने उदयीमान सूर्य को अर्घ्य अर्पित किया।

उदयीमान सूर्य को अर्घ्य देते हुए आस्था के महापर्व छठ का समापन हुआ। अब छठ व्रती प्रसाद के साथ उपवास तोड़ा

लोगों के बीच ठेकुआ सहित अन्य प्रसाद का वितरण किया गया। राजधानी रांची के विभिन्न जलाशयों में पौ फटने से पहले ही छठ व्रतियों और श्रद्धालुओं का आगमन शुरू हो गया था।

हल्की ठंड के बीच गाजे-बाजे के साथ लोग जलाशयों के पास इकट्ठा होने लगे थे। जैसे ही सूरज की पहली लालिमा आकाश में दिखाई पड़ी लोगों ने अर्घ्य दिया।

इस बार घरों छत पर भी जल कुंड बना कर लोग भगवान सूर्य को भक्ति भाव के साथ अर्घ्य दिया.

कोरोना महामारी की वजह से पूरे 2 साल बाद इतने हर्षोल्लास के साथ छठ पर्व मनाया गया।

रविवार शाम को झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सहित बाबूलाल मरांडी, राजेश ठाकुर, रघुवर दास, मंत्री बन्ना गुप्ता, वरिष्ठ विधायक सरयू रॉय सहित कई अन्य गणमान्य लोगों ने छठ घाट जाकर अस्ताचल सूर्य को अर्घ्य अर्पित किया था।

रांची के छठ घाटों में दिखी रौनक, श्रद्धा भाव से लोगों ने दी अर्घ्य

राजधानी रांची के कई जलाशयों में प्रशासन द्वारा छठ पर्व मनाने की व्यवस्था की गई थी।

रविवार शाम की भांति सोमवार की सुबह को भी रांची के कांके डैम, रूक्का डैम, धुर्वा डैम, बड़ा तालाब, करमटोली तालाब, बनस तालाब और तिरिल पोखर सहित कई अन्य जलाशयों में छठ व्रतियों और श्रद्धालुओं ने भगवान भास्कर को अर्घ्य दिया।

प्रशासन की तरफ से छठ घाटों पर श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए प्रकाश और प्रसाद सहित कई अन्य तरह की व्यवस्था की गई थी। घाटों में पर्याप्त साफ-सफाई भी दिखी। सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *