गुजरात के मोरबी में पुल टूटने से 141 लोगों की मौत, 177 को बचाया

राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने इस हादसे पर दुख जताया, पीएम राष्ट्रीय राहत कोष से मरने वालों के परिजन को दो दो लाख अनुग्रह राशि देने की घोषणा साथ ही घायलों को 50-50 हजार रुपये की राशि दी जाएगी.

मरम्मत के बाद बिना फिटनेस सर्टिफिकेट ब्रिज को समय से पहले खोल दिया

GUJRAT: मोरबी पुल हादसे में अभी तक 141 लोगों की मौत हो गई, वहीं 177 लोगों को बचाया गया.

मोरबी हादसे के बाद एनडीआरएफ की तीन टीमों को मौके पर भेजा गया है. साथ ही नेवी और एयरफोर्स की टीमों को भी घटनास्‍थल के लिए रवाना किया गया है.
गुजरात के मोरबी में पुल गिरने से हुए दर्दनाक हादसे में अब तक 141 लोगों की मौत हो गई है और बड़ी संख्‍या में लोग घायल हुए हैं.

इस हादसे के बाद एनडीआरएफ की टीमों को मौके पर भेजा गया है. साथ ही नेवी और एयरफोर्स की टीमों को मोरबी के लिए रवाना कर दिया है.

बताया जा रहा है कि मरने वालों में 40 बच्‍चे शामिल हैं. जबकि इस हादसे में अब तक 177 लोगों को बचाया गया है.

राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने इस हादसे पर दुख जताया है.

मोरबी हादसे की जांच के लिए पांच सदस्‍यीय कमेटी का गठन किया गया है. आईएएस राजकुमार बेनीवाल की अध्‍यक्षता में कमेटी हादसे की जांच करेगी.

पुल गिरने की घटना के बाद बड़े पैमाने पर राहत और बचाव कार्य चलाया जा रहा है. नेवी और एयर फोर्स की टीमों को मौके के लिए रवाना किया गया है. आईएनएस वलसुरा को रेस्‍क्‍यू बोट, मरीन कमांडो और तैराकों के साथ मौके के लिए भेजा गया है.

हादसे के बाद गुजरात सरकार ने हेल्‍पलाइन नंबर जारी किया है. हादसे से जुड़ी जानकारी के लिए 02822243300 नंबर पर कॉल कर पता किया जा सकता है.

मोरबी में गिरा केबल पुल करीब एक सदी पुराना था. मरम्‍मत के बाद चार दिन पहले ही 26 अक्‍टूबर को इस पुल को फिर से खोला गया था. हालांकि 24 घंटे पहले का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें यह पुल हिलता हुआ नजर आ रहा है.

हादसे को लेकर पीएम मोदी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी, गृह मंत्री अमित शाह सहित कई नेताओं ने दुख जताया है. हादसे के बाद पीएम मोदी ने गुजरात के मुख्‍यमंत्री भूपेंद्र पटेल और संबंधित अधिकारियों से बातचीत की है.

पीएम मोदी ने मोरबी में जान गंवाने वाले प्रत्‍येक व्‍यक्ति के परिवार को पीएमएनआरएफ से दो लाख रुपये की राशि की मदद की घोषणा की है. साथ ही घायलों को 50-50 हजार रुपये की राशि दी जाएगी.

स्थानीय विधायक एवं राज्य मंत्री बृजेश मेरजा ने कहा, “पुल टूटने से कई लोग नदी में गिर गए. बचाव अभियान जारी है.” प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, हादसे के वक्‍त पुल पर कई महिलाएं और बच्चे मौजूद थे.

मोरबी हादसे में घायल करीब 100 लोगों को अस्‍पताल पहुंचाया गया है.

जानबूझकर पुल हिला रहे थे लोग

इस हादसे में बाल-बाल बचे विजय के मुताबिक, जब वह और उनके परिजन पुल पर पहुंचे तो कुछ युवक जानबूझकर पुल को जोर-जोर से हिला रहे थे। इससे आने-जाने वालों को काफी दिक्कत हो रही थी। ऐसे में विजय को लगा कि इस पुल पर रुकने में खतरा हो सकता है। इसके चलते वह और उनके परिजन बिना आगे बढ़े पुल से लौट आए। विजय ने बताया कि उन्होंने इस बारे में पुल के स्टाफ को भी जानकारी दी थी, लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया गया।

पुल की क्षमता 100 लोगों की

मिली जानकारी के मुताबिक, इस पुल की क्षमता करीब 100 लोगों की ही है। वहीं, इस पुल पर आने के लिए करीब 15 रुपये की फीस भी लगती है। ऐसे में कहा जा रहा है कि दिवाली के बाद वाले वीकेंड पर कमाई के लालच में इस पुल को बिना फिटनेस जांच के ही खोल दिया गया। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया है कि घटना के वक्त करीब 400 से 500 लोग पुल पर थे। ऐसे में भारी भीड़ का बोझ पुल सह नहीं पाया और टूट गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *