संपूर्ण क्रांति के साथ ही संपूर्ण विकास भी लोकनायक के विचारों से ही संभव : डॉ प्रणव कुमार बब्बू

 

चित्रांश सिटी में धूमधाम से मनायी गयी जयप्रकाश नारायण की 120 वीं जयंती

RANCHI: सामाजिक – वैचारिक मंच रांची रिवोल्ट – जनमंच के संयोजक, समाजसेवी एवं एबीकेएम के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अधिवक्ता डॉ. प्रणव कुमार बब्बू ने कहा कि

लोकनायक जयप्रकाश नारायण संपूर्ण क्रांति के जनक तो हैं पर वह क्रांति केवल राजनीतिक स्तर पर नहीं हो सकती.

उन्होंने कहा कि देश में संपूर्ण एवं समन्वित विकास तभी हो सकता है

जब लोकनायक के विचारों के अनुरूप न केवल स्वयं बल्कि अपने परिवार और समाज को भी प्रगति के रास्ते पर आगे बढ़ाने के लिए हम अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दें.

राजधानी के पिठौरिया – चन्दवे रोड स्थित सतकनादु के चित्रांश सिटी में लोकनायक जयप्रकाश नारायण की प्रतिमा के समक्ष आयोजित जयंती समारोह को संबोधित करते हुए

डॉ. बब्बू ने कहा कि अब यह प्रमाणित हो चुका है कि केवल विकास से कुछ नहीं होता बल्कि इसके लिए बौद्धिकता, बेहतर परिवेश और विचारों की परिपक्वता भी बहुत अधिक जरूरी है

और जब तक लोग इन विचारों के अनुरूप अपने आप को ढाल नहीं लेते तब तक हम सच्चे अर्थों में विकास को प्राप्त नहीं कर सकते.

रांची रिवोल्ट – जनमंच एवं अन्य सामाजिक – सांस्कृतिक संगठनों के द्वारा आयोजित इस समारोह में अन्य वक्ताओं ने भी अपने विचार व्यक्त किये. सैकड़ो ग्रामीणों की उपस्थिति में आयोजित इस

जयंती समारोह की शुरुआत में लोकनायक की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर एवं उपस्थित सभी लोगों के बीच मिठाइयों का वितरण कर लोकनायक के विचारों पर चलने का संकल्प लिया गया और

यह विश्वास व्यक्त किया गया कि जिस प्रकार से पूरी दुनिया में भारत की प्रतिष्ठा बढ़ रही है उसके कारण लोकनायक जयप्रकाश नारायण के सपनों का सार्थक होना अब वास्तविक लगने लगा है.

समारोह में डॉ. प्रणव कुमार बब्बू, सुकांतो मुखर्जी, विजय कुमार दत्त पिन्टू, संतोष दीपक, हारून रशीद, मुनव्वर, गुलफाम हसन, हुस्न आरा, खलीजा बेगम, मो. जुल्फान, मो.रहीम, मो.कुद्दुस अंसारी,उपेन्द्र कुमार बब्लू, जयदीप सहाय,राकेश रंजन बब्लू, डॉ. अनल सिन्हा, सुरज कुमार सिन्हा सहित अन्य लोग उपस्थित थे.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *