क्लेफ्ट लिप जन्मजात बीमारी,झारखंड में लगभग 20 हजार केस पेडिंगःनिदेशक प्रमुख स्वास्थ्य सेवाएं

देवकमल अस्पताल में पहला इंटरनेशनल क्लेफ्ट लिप सर्जिकल मिशन का शुभारंभ

 

RANCHI:  देवकमल अस्पताल में मिशन स्माइल और इंडियन ऑयल कार्पोरेशन लि.(आईओसी) के सहयोग से रविवार को पहला इंटरनेशनल क्लेफ्ट लिप सर्जिकल मिशन का शुभारंभ मुख्य अतिथि निदेशक प्रमुख स्वास्थ्य सेवाएं ,झारखंड डॉ कृष्ण कुमार ने दीप जलाकर किया।

इस मौके पर मिशन स्माइल के सीईओ कोनरैड डेनिस,इंडियन ऑयल कार्पोरेशन के कार्यकारी निदेशक मुकेश रंजन दास एवं देवकमल अस्पताल के सीईओ एवं सर्जन डॉ अनंत सिन्हा, डॉ नलिनी, डॉ प्रभाकर, रफीउर रहमान सहित अन्य चिकित्सक एवं गणमान्य लोग उपस्थित थे।

शुभारंभ मौके पर मुख्य अतिथि निदेशक प्रमुख स्वास्थ्य सेवाएं डॉ कृष्ण कुमार ने कहा कि झारखंड में मिशन स्माइल के तहत आईओसी के सहयोग से  क्लेफ्ट लिप के बच्चों का आपरेशन शिविर का आयोजन सराहनीय है।

क्लेफ्ट लिप एक जन्मजात बीमारी है। झारखंड अभी भी लगभग 20 हजार केस पेंडिंग है। इस तीन दिवसीय शिविर के माध्यम से पचास बच्चों का आपरेशन होना है।

उन्होंने कहा कि झारखंड में एक मात्र क्लेफ्ट लिप सर्जन डॉ अनंत सिन्हा है जिनके सहयोग से यह कार्य होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह मिशन झारखंड में सालों भर चले। सरकार एनएचएम के माध्यम से सहयोग करेगी।

आने वाला समय हमारा झारखंड क्लेफ्ट लिप से मुक्त होगा।

निदेशक प्रमुख ने डॉ अनंत सिन्हा से आग्रह किया कि वे झारखंड के सर्जनों को भी क्लेफ्ट लिप आपरेशन का प्रशिक्षण दें ताकि भविष्य में वे सर्जन आपका सहयोगी बन सके। और राज्य में क्लेफ्ट लिप को मुक्त करने में सहयोग दे सके।

मिशन स्माइल ने 40 हजार क्लेफ्ट लिप आपरेशन किये: कोनरैड डेनिस

 

इस मौके पर मिशन स्माइल के सीईओ कोनरैड  डेनिस ने कहा कि मिशन स्माइल की शुरुआत 2003 में की गयी। अबतक पूरे देश में 40 हजार क्लेफ्ट लिप का आपरेशन किया गया है।

झारखंड में जमशेदपुर के टीएमएच अस्पताल के सहयोग से 150 सर्जरी किये गये। अब आईओसी के सहयोग से रांची के देवकमल अस्पताल में तीन दिवसीय सर्जरी कैंप लगाया गया है जहां पचास बच्चों का क्लेफ्ट लिप का आपरेशन किया जायेगा।

आज पहले दिन लगभग 25 बच्चे को क्लेफ्ट लिप का आपरेशन किया जायेगा।

इस कार्य में सिंगापुर से डॉक्टरों की टीम क्लेफ्ट लिप आपरेशन में सहयोग देने आयी है जिसमें डॉ प्रभाकर, डॉ नलिनी  एवं एनेस्सथेसिया के डॉक्टर सहित अन्य स्टाफ शामिल हैं।

क्लेफ्ट लिप बच्चों के चेहरे पर मुस्कान लाना आईओसी का उद्देश्य: मुकेश रंजन दास

इंडियन ऑयल कार्पोरेशन लि. के कार्यकारी निदेशक मुकेश रंजन दास ने कहा कि आईओसी कंपनी सीएसआर(कम्यूनिटी सोशल रिस्पांसिबिलिटी) के तहत इस पुनीत कार्य में आर्थिक सहयोग कर रही है।

झारखंड में एक साल में 170 बच्चों की क्लेफ्ट लिप की सर्जरी की जिम्मेवारी ली है।

झारखंड के सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों से क्लेफ्ट लिप के बच्चों को आपरेशन के लिए लाना ले जाना उनका अस्पताल में रहने खाने की मुफ्त व्यवस्था, आपरेशन का खर्च,दवा आदि सभी का इंतजाम आईओसी कंपनी की ओर से किया जा रहा है।

एक बच्चे पर पचास हजार रुपये खर्च किया जायेगा। श्री दास ने कहा कि आईओसी का मुख्य उद्धेश्य उन बच्चों के चहरे पर खुशी लाना है

जो क्लेफ्ट लिप के कारण मां का दूध तक नहीं पी पाते और ना ढंग से खाना खा पाते हैं।

इस मौके पर डॉ अनंत सिन्हा ने सुदूर क्षेत्रों से आये क्लेफ्ट लिप के बच्चों एवं उनके माता पिता का स्वागत करते हुए  कहा कि हम पर सबों ने भरोसा किया सभी को हम धन्यवाद देते हैं.

मिशन स्माइल अब देवकमल का हिस्सा रहेगा. डॉ सिन्हा ने आउटरीच टीम को भी धन्यवाद दिया

जिन्होंने लोगों को जागरूक कर अस्पताल लाया है अबतक 225 की लिस्ट बनाया है. सभी का हम आपरेशन करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *