व्यवहार न्यायालय व टैक्सेसन इकाई ने मनाया स्थापना-दिवस

 

RANCHI:  अखिल भारतीय अधिवक्ता परिषद के 30 वें स्थापना दिवस (7 सितम्बर) को अधिवक्ता परिषद् ,झारखण्ड की विभिन्न इकाईयां स्थापना-दिवस पखवारा के तौर पर मना रही हैं ।

इसी के तहत रांची ब्यवहार न्यायालय व टैक्सेसन इकाईयों द्वारा संयुक्त रूप से एक समारोह रांची के बरियातु स्थित आरोग्य भवन के सभागार में आयोजित किया गया

जिसमें प्रदेशाध्यक्ष राजेन्द्र कुमार मिश्र ने परिषद् के स्थापना की पृष्ठभूमि पर सविस्तार वर्णन करते हूए परिषद से जूड़े अनेक सदस्यों का स्मरण भी दिलाया ।

साथ ही विभिन्न आयामों और आगामी कार्ययोजना की चर्चा भी की ।

समारोह की अध्यक्षता कर रहे ब्यवहार न्यायालय इकाई के अध्यक्ष प्रदीप कुमार चौरसिया ने स्वागत भाषण देते हुए संगठन के विचार रखे ।

अधिविद्य परिषद्, झारखंड के अध्यक्ष राजेंद्र कृष्ण ने परिषद् के उद्देश्यों की चर्चा करते हुए समाज के अंतिम ब्यक्ति तक सुलभ ,नि:शुल्क व त्वरित न्याय दिलाने में परिषद् के प्रयासों का वर्णन किया ।

अखिल भारतीय अधिविद्य परिषद् के सदस्य प्रशांत कुमार सिंह ने कहा कि हमारी संस्था ट्रेड यूनियन जैसा संगठन नहीं है

जो अधिवक्ताओं की मांगों को उठाता रहे वरन् समाज व राष्ट्र के उत्थान में अधिवक्ताओं के योगदान को सुदृढ करने वाला संगठन है ।

समारोह में अपने विचार ब्यक्त करते हूए राष्ट्रीय परिषद् सदस्य प्रशान्त विद्यार्थी ने न्याय प्रवाह की अधिक से अधिक सदस्यता ग्रहण करने का आह्वान किया,

डॉ भीम महतो ने रांची में चलाये जा रहे न्यायकेन्द्र की विस्तृत जानकारी दी तो प्रमोद कुमार गुप्ता ने परिषद के कार्यकलापों की चर्चा की ।

स्वाध्याय मंडलके प्रभारी अखौरी अंजनी ने न्याय मम् धर्म: पर प्रकाश डाला तो

ब्यवहार न्यायालय इकाई के महामंत्री विजय कुमार पाण्डेय ने राष्ट्र व स्मिथ के अंतिम ब्यक्ति तक न्याय की किरण पहुंचाने की बातें बताईं

तो टैक्सेसन इकाई के महामंत्री सत्येन्द्र नाथ गोंझू ने विभिन्न आयामों की बातें रखीं ।

टैक्सेसन के वरिष्ठ अधिवक्ता मुरारी लाल मोदी ने लगभग 15 वर्षो पूर्व बोकारो में आयोजित सेमिनार की याद दिलाई

जिसमें ऊन्होंने बतौर मुख्य वक्ता भाग लिया था साथ ही उन्होंने परिषद् को हर प्रकार से सहयोग का आश्वासन दिया ।

संचालन टैक्सेसन इकाई के अध्यक्ष मनोज कुमार ने एवं धन्यवाद ज्ञापन ब्यवहार न्यायालय के सचिव सुरोजित राय ने किया ।

इस अवसर पर 30 वरिष्ठ व परिषद् से जूड़े पुराने अधिवक्ताओं को पुष्प भेंटकर व शॉल ओढ़ाकर सम्मानित भी किया गया

जिसमें प्रमुख राजेन्द्र मिश्र,मुरारी लाल मोदी,राजेन्द्र कृष्ण, प्रशान्त कुमार मिश्र,मनोज कुमार, प्रदीप चौरसिया, , कृष्ण गोपाल निताई, विजय पाण्डेय,चन्द्र प्रकाश, सुशील कुमार, सत्येन्द्र नाथ गोंझू , भोला प्रसाद सिन्हा, बलिराम प्रसाद जायसवाल, हाराधन प्रमाणिक,अखौरी अंजनी , लक्ष्मण कुमार, विनय प्रसाद, प्रमोद कुमार गुप्ता , भीम महतो, बख्शी विभा, प्रशान्त विद्यार्थी ,ओम प्रकाश बिदसर, विजय कुमार वर्मा,अशोक कुमार, राजीब रंजन , पंचदेव सिंह, रविन्द्र कुमार यादव, युगल जी , पुरूषोत्तम लाल पाटोदिया हैं । समारोह में बड़ी संख्या में पुरूष और महिला सदस्यों ने भाग लिया

राष्ट्रीय गान के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ । यह जानकारी प्रांत मीडिया सह प्रभारी रीतेश कुमार बॉबी के द्वारा दी गयी |

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खबरें एक नजर में….