झारखंड में भाजपा की नैया पार लगाएंगे उप्र के लक्ष्मीकांत वाजपेयी, प्रदेश प्रभारी बनाए गए

लक्ष्मीकांत वाजपेयी

RANCHI : झारखंड में दोबारा सत्ता में आने और लोकसभा सांसदों की संख्या बढ़ाने के लिए भाजपा यूपी पैटर्न को फॉलो करेगी. प्रदेश का लोकसभा और विधानसभा चुनाव उत्तर प्रदेश मॉडल पर लड़ा जाएगा. इसके लिए उत्तर प्रदेश के 3 बड़े नेताओं को झारखंड में पार्टी के संचालन का दायित्व दिया है. उत्तर प्रदेश के चार बार विधायक रह चुके पूर्व उप्र भाजपा अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी प्रदेश प्रभारी बनाए गए है.

तीन नेताओं के हाथ में सौंपी गई कमान

केंद्रीय नेतृत्व ने उत्तर प्रदेश के 3 बड़े नेताओं लक्ष्मीकांत वाजपेयी, नागेंद्र नाथ त्रिपाठी और कर्मवीर सिंह को झारखंड की कमान सौंपी है. बता दें कि उत्तर प्रदेश के मॉडल पर झारखंड में भाजपा पार्टी विधानसभा और लोकसभा चुनाव लड़ने की रणनीति तैयार करेगी. भाजपा पार्टी द्वारा झारखंड प्रभारी लक्ष्मीकांत वाजपेयी को बनाया गया.

भारतीय जनता पार्टी ने शुक्रवार को झारखंड सहित 15 राज्यों में पार्टी प्रभारी के कई चेहरों में बदलाव कर बीजेपी यूपी के कद्दावर नेता और राज्यसभा सांसद डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी को झारखंड प्रदेश प्रभारी बनाया है.

दीपक प्रकाश ने किया स्वागत

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने बताया कि झारखंड प्रभारी लक्ष्मीकांत बाजपाई अनुभवी नेता है और 4 बार के विधायक रह चुके हैं. झारखंड प्रभारी लक्ष्मीकांत वाजपेयी बनने पर झारखंड में भाजपा को और मजबूती मिलेगी. पूरी झारखंड भाजपा परिवार उनका स्वागत करता है. उनके अनुभव का लाभ हम सबको मिलेगा.

डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी के नेतृत्व में 2014 लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने यूपी में 80 सीटों में से 71 सीटें पाले में आई थी. इसमें 365 विधानसभा सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की थी. यह रिकॉर्ड अब तक नहीं टूटा. इस दौरान वो  बीजेपी यूपी के प्रदेश अध्यक्ष भी थे. वो 2012 से 2014 तक उत्तर प्रदेश में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष थे.

काफी समय से पार्टी की गतिविधियों से थे दूर

डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी मेरठ के रहने वाले हैं. पिछले विधानसभा चुनाव हार गए थे. उसके बाद वे  पर्दे के पीछे रहकर पार्टी के लिए काम कर रहे थे. एक बार फिर चुनाव से पहले भाजपा ने उनको याद कर लिया है. उनकी कुशलता को देखते हुए उन्हें यूपी में ज्वाइनिंग कमेटी का चेयरमैन बना दिया गया था, जिसके बाद उन्होंने कई बड़े चेहरों को बीजेपी में शामिल करवाया है, जिसमें मुलायम परिवार की छोटी बहू अपर्णा यादव भी शामिल हैं.

2022 में डॉ. लक्ष्मीकांत ने मेरठ शहर विधानसभा से भी टिकट लेने से इंकार कर दिया था. जिसके बाद पार्टी में इनके शिष्य कहे जाने वाले कमल दत्त शर्मा को पंडित कार्ड खेलते हुए टिकट दिया गया. बता दें कि डॉ. लक्ष्मीकांत ने 2017 से लेकर 2022 तक पर्दे के पीछे से उत्तर प्रदेश में पार्टी को मजबूत करने का काम किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खबरें एक नजर में….