फिट इंडिया क्विज 2021 में डीपीएस रांची “नेशनल चैंपियन”

 

RANCHI: प्रत्येक विद्यार्थी को शारीरिक रूप से सक्रिय जीवन शैली अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से  प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी जी द्वारा फिट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत की गई।

विद्यार्थियों के जीवन में फिटनेस की महत्ता को सुनिश्चित करते हुए युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय (मिनिस्ट्री ऑफ यूथ अफेयर्स एंड स्पोर्ट्स), भारत सरकार द्वारा फिट इंडिया क्विज 2021 का आयोजन किया गया।

सफलता के पथ पर सतत अग्रसर रहते हुए डीपीएस रांची “फिट इंडिया क्विज 2021” के पहले संस्करण में नेशनल चैंपियन बना।

मुंबई में आयोजित इस प्रतियोगिता के नेशनल राउंड (क्वाटरफाइनल, सेमीफाइनल एवं फाइनल) में झारखंड का प्रतिनिधित्व कर रहे डीपीएस रांची के शाकेब अर्सलान और वैष्णव गरोडिया विजयी रहे।

इस प्रतियोगिता में इनाम स्वरुप विद्यालय को 25,00,000 रुपये का इनामी पुरस्कार मिला

जबकि प्रतिभागियों को 02,50,000 रुपये का नकद पुरस्कार मिला है।

विद्यालय के प्रतिभागियों को भारत के माननीय युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्री श्री अनुराग ठाकुर के करकमलों द्वारा सम्मानित किया गया।

इस क्विज प्रतियोगिता के फाइनल राउंड में, डीपीएस रांची के छात्रों ने तमिलनाडु, बिहार और अरुणाचल प्रदेश की टीमों को हराया,

जबकि सेमीफाइनल राउंड में उन्होंने पंजाब, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की टीमों को हराया था।

इस प्रतियोगिता के लिए सर्वप्रथम प्रारंभिक चरण में शाकेब अर्सलान और वैष्णव गरोडिया का चयन विद्यालय स्तर पर किया गया था ।

इसके बाद प्रिलिमनरी राउंड नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा लिया गया।

प्रिलिमनरी राउंड में क्वालीफाई करने के बाद विद्यार्थियों का चयन स्टेट राउंड के लिए हुआ एवं स्टेट राउंड को जीतने के बाद डीपीएस रांची स्टेट चैंपियन बना एवं प्रतिभागियों का चयन नेशनल राउंड के लिए हुआ।

उल्लेखनीय है कि, डीपीएस रांची 28 राज्यों और 08 केंद्र शासित प्रदेशों से राष्ट्रीय स्तर के लिए योग्य 36 टीमों में से एक था।

इस प्रतियोगिता में पूरे देश के 13,000 स्कूलों के 35,000 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया।

विद्यालय के प्राचार्य डॉ राम सिंह शाकेब और वैष्णव के अभूतपूर्व उपलब्धि पर अत्यंत हर्षित दिखे।

उन्होंने उनको बधाई देते हुए कहा कि, ‘‘यह उपलब्धि उनके द्वारा किए गए निरंतर प्रयासों का परिणाम है,

जिन्होंने डीपीएस रांची को सफलता के शिखर पर पहुँचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।‘’

साथ ही उन्होंने कहा कि, ‘‘यह उपलब्धि दृढ़ संकल्प, धैर्य और दृढ़ता के महत्व को प्रदर्शित करती है।‘’ प्राचार्य ने उनके उज्जवल भविष्य की मंगल कामना भी की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खबरें एक नजर में….