दबंग मुस्लिमों ने 50 मुसहरों को किया बेघर, मदरसे की जमीन बताकर उखाड़ फेंकी झोपड़ियां

दबंग

घर तोड़े जाने के बाद मुसहर परिवार वाहनों पर अपने सामानों को रखकर आसपास के रिश्तेदारों और अन्य ठिकानों की तलाश में जुटे।

DALTONGANJ : पलामू जिले के पांडू प्रखंड के कुजरुकला पंचायत के अल्पसंख्यक बहुल मुरूममातू गांव के  करीब 50 लोगों के मुसहर परिवारों को दबंगों ने बेघर कर दिए जाने की खबर मिली है. यह लोग लगभग 4 दशक से मिट्टी और खपरैल के अपने घरों में रह रहे थे.

बताया गया कि 50 मुसहर सदस्यों के घर को तोड़ डाला गया। आरोप है कि दबंगों ने मदरसे की जमीन बता कर इन परिवारों को हटा दिया और उन्हें गांव से जबरन निकाल दिया है। वहीं बारिश के मौसम में इन्हें बेघर किये जाने से उनकी मुश्किलें काफी बढ़ गयी है।

दबंग
घर से बेघर किये गये लोगों का दावा है कि 40 साल पहले सर्वे में भी यह गैरमजरूआ भूखंड उनके नाम पर्चा में दर्ज है।

दलित बेघर किए जा रहे, सरकार मस्ती में है : रघुवर दास

 

इस घटना पर बीजेपी नेताओं ने हेमंत सोरेन सरकार पर निशाना साधा है। पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवर दास ने कहा कि हेमंत सरकार में जिहादियों की हिम्मत बढ़ गयी है। पूर्व सीएम ने कहा कि महादलित परिवारों के घरों को मदरसे की जमीन बताकर तोड़ कर बेघर कर दिया गया और यह गूंगी-बहरी सरकार मौज मस्ती में लगी है। यह साबित करता है कि सरकार के संरक्षण में राज्य की डेमोग्राफी बदलने के लिए सुनियोजित तरीके से षड़यंत्र चल रहा है।

 

पांडू थाने में गुहार लगाई

 

पता चला है कि दबंगों ने सोमवार को अचानक समूह बनाकर टोंगरी पहाड़ी के निकट रह रहे मुसहरों के कच्चे घर और झोपड़ियों पर हमला बोल दिया। इस दौरान कई घर तोड़ दिये गये। बाद में डरे-सहमे लोग स्थानीय 50 लोग पांडू थाना पहुंचे और पुलिस से इंसाफ की गुहार लगाई। गांव और जमीन से बेदखल किये जाने के बाद महादलित समुदाय के ये लोग अब अपने आशियाने के लिए भटक रहे हैं।

घर तोड़े जाने के बाद इन परिवारों ने ट्रक और अन्य वाहनों पर अपने सामानों को रखकर आसपास के रिश्तेदारों और अन्य ठिकानों की तलाश में जुटे हैं। घर से बेघर किये गये लोगों का दावा है कि 40 साल पहले सर्वे में भी यह गैर मजरूआ भूखंड उनके नाम पर्चा में दर्ज है।

 

बरसात में बेघर हुए दलित

 

पीड़ितों ने पुलिस को बताया है कि सोमवार को मुस्लिम समाज के लोगों ने नाजायज तरीके से उनके मिट्टी और फूस के घर को ध्वस्त कर दिया। आरोप है कि उनका सामान एक वाहन पर जबरदस्ती लादकर छतरपुर प्रखंड लोटो गांव के पास छोड़ दिया गया है।

पीड़ित परिवारों के कुछ लोग पांडू थाना पहुंचकर सोमवार की दोपहर बाद शिकायत की है। पांडू के प्रखंड विकास पदाधिकारी सह अंचल पदाधिकारी राहुल कुमार ने कहा कि उन्हें जानकारी मिली है। वह मामले की जांच करा रहे हैं। बताया जा रहा है कि करीब 50 लोग बरसात के इस मौसम में बेघर हो गए हैं।

 

कष्ट में है मुसहर समाज

 

पीड़ितों का कहना है कि सर्वे में भी उनका नाम बंडा पर्चा में दर्ज किया गया है। वहीं मुस्लिम पक्ष का कहना है कि संबंधित जमीन मदरसे की है। मुसहर परिवार के गिरजा मुसहर, संजय मुसहर, जितेंद्र मुसहर, नंदलाल मुसहर, संतोष मुसहर, लक्ष्मी देवी, रंजू देवी आदि ने मिलकर थाने में शिकायत दर्ज कराई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *