स्त्रीरोग विशेषज्ञों का तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन फोग्सी ईस्ट जोनल कान्फ्रेंस वीथ युवा दो सितंबर से

सम्मेलन में लगभग सात सौ स्त्रीरोग विशेषज्ञ शामिल होंगे,  मुख्य अतिथि स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता करेंगे उद्घाटन

 

RANCHI: रांची ओब्स्टेट्रिक्स एंड गायनोकोलॉजिकल सोसाइटी(राग्स) के मेजबानी एवं  फोग्सी के तत्वावधान में स्त्रीरोग विशेषज्ञों का  तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन फोग्सी ईस्ट जोनल कान्फ्रेंस वीथ युवा का आयोजन दो से चार सितंबर तक होटल चाणाक्या बीएनआर में किया गया है। सम्मेलन में देश भर से ख्याति प्राप्त स्त्रीरोग विशेषज्ञ भाग लेंगी।

आईएमए भवन में शनिवार को आयोजित प्रेसवार्ता में आर्गेनाइजिंग चेयरपर्सन डॉ प्रीतिबाला सहाय एवं डॉ सुमन सिन्हा, सेक्रेटरी डॉ गीता सिन्हा मानकी, डॉ किरण त्रिवेद्धी, डॉ अर्चना कुमारी, साइंटिफिक चेयरपर्सन,डॉ शशिबाला सिंह, डॉ सुनीता झा  ने संयुक्त रुप से उक्त जानकारी दी।

डॉ प्रीतिबाला सहाय ने बताया कि सम्मे्लन का उद्घाटन मुख्य अतिथि स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता दो सितंबर को शाम साढ़े छह बजे करेंगे। विशिष्ट अतिथि के रुप में फोग्सी की राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ एस. शांता कुमारी उपस्थित रहेंगी।

 

डॉ सहाय ने बताया कि फोग्सी की राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ एस शांता कुमारी के निर्देशन में पूरे देश में धीरा नाम से एक देशव्यापी अभियान शुरु किया गया है। जिसमें महिलाओं पर हो रहे अपराध, अत्याचार का प्रभावी ढ़ंग से रोकथाम का निरंतर प्रयास हो रहा है।

डॉ ब्यूटी बनर्जी ने धीरा के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि धीरा का मतलब साहस होता है समाज में महिलाओं के प्रति हो रहे साइकोलॉजिकल, फिजिकल, सोशल वायलेंस को रोकने के लिए समाज के लोगों को जागरुक करने का यह अभियान चलाया जा रहा है।

ताकि महिलाओं में डर का वातावरण को खत्म किया जा सके। डॉ बनर्जी ने कहा कि आखिर महिलाएं किस पर विश्वास करे। डॉ उषा नाथ ने भी महिलाओं पर हो रहे अत्याचार को रोकने के दिशा में समाज को जागरुक करने पर जोर दिया।

डॉ उषा नाथ ने कहा कि आज घर के अंदर और घर के बाहर महिलाओं पर अत्याचार हो रहा है। यहां तक कि माता के भ्रूण पर भी अत्याचार किया जा रहा है।

इसके लिए समाज के लोगों को जागरुक करने की जरुरत है। डॉ अर्चना कुमारी ने कहा कि सम्मेलन में कुल चार कार्यशाला का भी आयोजन किया जायेगा। सम्मेलन में मुख्य रुप से अनीमिया, पीपीएच, एंटीनेटल केयर, अंकोलॉजी,जीडीएम, हाईरिस्कओब्सटेट्रिस, एडोलेशन गायनोकोलॉजी के विषय़ों पर गहन परिचर्चा होगी।

सम्मेलन में फोग्सी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ बासन मुखर्जी भी मुख्य रुप से भाग लेंगी। डॉ अर्चना कुमारी ने बताया कि ईस्ट जोन के सभी मेडिकल कालेजों की पीजी छात्राएं भाग लेंगी। युवा चिकित्सकों के लिए देशभर से आनेवाले वरिष्ठ विशेषज्ञों एवं इस क्षेत्र में कार्यरत सुप्रसिद्ध चिकित्सकों से अनुभव प्राप्त करने एवं नयी तकनीकों की जानकारियां प्रपा्त करने का बहुमुल्य अवसर प्राप्त होगा।

प्रेसवार्ता में डॉ रेनुका सिन्हा, डॉ आशा सिंह, डॉ माया वर्मा, डॉ सरिता तिर्की, डॉ अंजना झा सहित अन्य महिला डॉक्टर्स उपस्थित थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खबरें एक नजर में….