झारखंड सरकार भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी है, मुख्यमंत्री इस्तीफा दें: बाबूलाल मरांडी

 

सरकार जनता के सवालों से भाग रही, सदन को समय से पहले ही किया स्थगित

 RANCHI:  भाजपा नेता विधायकदल एवम पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने आज राज्य सरकार पर कड़ा प्रहार किया।

श्री मरांडी भाजपा प्रदेश कार्यालय में प्रेसवार्ता को संबोधित कर रहे थे।

प्रेसवार्ता में पार्टी के विधायक एवम मुख्य सचेतक विरंची नारायण, विधायक अनंत ओझा,जेपी पटेल,रणधीर सिंह,नीरा यादव,राज सिन्हा, मनीष जायसवाल, केदार हाजरा एवम पार्टी के प्रवक्ता कुणाल षाड़ंगी भी उपस्थित थे।

श्री मरांडी ने कहा कि सरकार विपक्ष की नही सत्तापक्ष के विधायकों के सवाल का जवाब नही दे पा रही थी।

सत्ता पक्ष के विधायकों ने भी लगातार सरकार को कटघरे में खड़ा किया। जनता के सवालों से सरकार पूरी तरह डर गई है।

उन्होंने कहा कि भाजपा के विधायक सदन में भ्रष्टाचार,अकाल सुखाड़, युवाओं के रोजगार, विधि व्यवस्था,दारोगा की हत्या, गो तस्करी,तुस्टीकरण,शिक्षा के इस्लामीकरण,उर्दू विद्यालय के नाम पर तुष्टिकरण,खनिज संसाधनों की लूट,बालू की लूट जैसे सभी जनमुद्दों पर सरकार से जवाब चाहती थी

लेकिन सरकार इन मुद्दों का सामना करने के बजाय भागती रही।

उन्होंने कहा कि भाजपा के चार विधायकों को असंवैधसनिक तरीके से निलंबित किया गया जबकि उसमें एक सदस्य सदन में उपस्थित भी नही थे।

उन्होंने कहा कि आज तो हद हो गई। विधानसभा अध्यक्ष ने पहले सदन को कुछ समय के लिए स्थगित किया

और बाद में बिना कार्य मंत्रणा समिति की बैठक बुलाये मनमाने ढंग से अचानक सदन को एक दिन पूर्व ही अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया।

कहा कि सरकार के संसदीय कार्यमंत्री को बताना चाहिये था कि अब सरकार के पास कोई बिज़नेस नही बचा।

जबकि सदन के कई विधायी कार्य अभी इस सत्रावधि केलिय पेंडिंग थे।
उन्होंने कहा कि जिस बात का हवाला देकर अध्यक्ष ने सत्र स्थगित किया वह भी लोकतांत्रिक प्रणाली में हास्यास्पद है। इसके पूर्व भी जनता के सवालों पर सदन में हंगामा होता रहा है।

विपक्ष का फर्ज है जनसमस्याओं को लेकर सरकार को कटघरे में खड़ा करना।

परंतु आज जिस तरह अलोकतांत्रिक तरीके से सदन को स्थगित किया गया उससे स्पष्ट है कि सरकार निरुत्तर ही नही,भयभीत भी है।

श्री मरांडी ने कहा कि मुख्यमंत्री के विधायक प्रतिनिधि जेल में हैं, प्रेस सलाहकार ईडी के दफ्तर में हैं। इसके पूर्व भ्रष्टाचार के मामले में वरिष्ठ आईएएस अधिकारी जेल में बंद है मुख्यमंत्री मुंह नही खोल रहे। भ्रष्टाचार की पूरी कहानी में सबकुछ साफ साफ है। इसलिये मुख्यमंत्री जवाब देने से भाग रहे।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को अब इस्तीफा दे देना चाहिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खबरें एक नजर में….