सदर में पहली बार अपेंडिक्स का लेप्रोस्कोपिक विधि से सफल सर्जरी

सर्जन डॉ अजित एवं टीम ने छह वर्षीय बच्चे को पेट में असहनीय दर्द से दिलायी राहत

RANCHI:   सदर अस्पताल में पहली बार लेप्रोस्कोपिक विधि से डॉ अजित एवं टीम ने  अपेंडिक्स का सफल आपरेशन कर छह वर्षीय बच्चे को पेट दर्द से निजात दिलायी.

डॉ अजित ने बताया कि एक मरीज जो 6 साल का बच्चा था सर्जरी ओपीडी के दौरान ओपीडी खत्म होने से आधे घंटे पहले बहुत ज्यादा पेट दर्द के साथ आया।

पता चला कि उसका जांच बाहर कराया गया है जिसमें अपेंडिक्स में बहुत सूजन था जिसके कारण बच्चा काफी दर्द में था।

पारिवारिक स्थिति अच्छी नहीं होने के कारण परिजन बाहर ऑपरेशन कराने को सक्षम नहीं थे।

बताया गया कि बच्चे के पिता सदर अस्पताल के ही मलेरिया विभाग के अस्थाई कर्मचारी हैं ,

बच्चे के पिता ने सर्जरी के डॉक्टर अजीत और एनेस्थीसिया विभाग के डॉक्टर पंकज सिन्हा और OT की सिस्टर इंचार्ज सविता कुमारी से अनुरोध करके, आग्रह किया कि कृपया कर उसका ऑपरेशन सदर अस्पताल में कर दें।

डॉ अजित ने बताया कि आमतौर पर अपराहन 3:00 बजे ओपीडी और रूटीन OT बंद हो जाती है फिर भी हम लोगों ने मरीज की गंभीर अवस्था को देखते हुए ऑपरेशन के लिए हामी भर दी।

चूंकि बच्चे का उम्र काफी कम था 6 साल का था जिसके लिए एक्सपोर्ट सर्जन और एनिसथिया की जरूरत होती है

,इसलिए हम लोगों ने प्लान किया कि उसे पूरी तरह से बेहोश करके दूरबीन विधि के द्वारा लेप्रोस्कोपी से अपेंडिक्स का ऑपरेशन करेंगे।
यह पहला लेप्रोस्कोपिक अपेंडिक्स सर्जरी भी हुआ.
इमरजेंसी केस में था और बच्चे का था इसलिए इसमें खतरा भी ज्यादा था।

ऑपरेशन बहुत छोटी छेद के द्वारा किया गया ,जिससे बच्चे का पेट बड़ा चीरा लगने से बच गया ,बच्चा एक-दो दिनों में अपने घर चला जाएगा.

सर्जरी टीम में सर्जन डॉक्टर अजीत कुमार, निश्चेतक डॉक्टर पंकज सिन्हा, सविता सिस्टर ,नीरज ,प्रणव ,नंदिनी शामिल थे.
डॉ अजित ने बताया कि इस ऑपरेशन के लिए उपाधीक्षक सदर अस्पताल एवं सिविल सर्जन डॉ बिनोद कुमार  के तरफ से विशेष रुप से अनुमति प्राप्त की गयी थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *