• विश्‍वविद्यालय सिर्फ डिग्री बांटने के लिये नहीं बल्कि गुणवत्‍तापूर्ण शिक्षा देने का माध्‍यम बने: कुलपति

रांची विश्‍वविद्यालय के कुलपति ने की सभी विभागों के हेड और डीन के साथ महत्‍पवूर्ण बैठक

 26 तारीख से हर रोज सिलसिलेवार सभी विभागों की समस्‍याओं को सुना और उसका निदान किया जायेगा

शिक्षकों , लायब्रेरियन, लैब असिस्‍टेंट, कंप्‍यूटर ऑपरेटरों व अन्‍य कर्मियों की कमी दूर होगी

RANCHI :   आरयू के नवनियुक्‍त कुलपति डॉ. अजीत कुमार सिन्‍हा ने गुरूवार 14 जुलाई को मोराबादी कैंपस स्थित आर्यभट्ट सभागार में विश्‍वविद्यालय के सभी विभागों के हेड , प्राध्‍यापकों एवं डीन के साथ एक महत्‍वपूर्ण बैठक की।

इस बैठक में उन्‍होंने प्राध्‍यापकों, डीन एवं विभागाध्‍यक्षों से कहा कि हमें समर्पित होकर अपने कार्यो को करना है। रांची विश्‍वविद्यालय को गुणवत्‍ता में सर्वोपरि बनाने का एकजुट होकर प्रयास करना है ।

कुछ ही दिनों में नैक की टीम आयेगी और यह सबका दायित्‍व बनता है कि हम नैक की कसौटियों पर खड़ा उतरें और विश्‍वविद्यालय को A++ ग्रेड मिले।
कुलपति ने कहा कि मैं आप सभी शिक्षकों का सहयोग चाहूंगा। अच्‍छी गुणवत्‍ता के लिये हमारे शिक्षकों के साथ ही शिक्षकेत्‍तर कर्मचारियों का गुणवत्‍तापूर्ण

और टाइम मैनेजमेंट के साथ काम करना आवश्‍यक है। हमें इसके लिये प्रयास करना होगा। अपने संबोधन में कुलपति ने रिसर्च कार्यों पर विशेष ध्‍यान देने की बातें कहीं।

उन्‍होंने कहा कि हमें अपनी शिक्षा को सिर्फ डिग्री बांटने वाला माध्‍यम नहीं बनाना है बल्कि गुणवत्‍तापूर्ण शिक्षा देना है।
आज जो युवा हमारे यहां शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं वह अगले पांच दस सालों में देश को चलाने के लिये महत्‍वपूर्ण पदों पर पहुंचेंगे। यदि हम आज इन्‍हें कुषल सक्षम शिक्षा देते हैं तभी हमारे देश का भविष्‍य सक्षम हाथों में होगा।

विभिन्‍न्‍विभागों के हेड, प्राध्‍यापकों, शिक्षकों की मांगों समस्‍याओं को सुन कर कुलपति ने कहा कि आप सभी अपनी समस्‍याओं को एक सप्‍ताह में लिखकर मुझे सौंपे। मैं सबों को निदान करूंगा। हमें मिलकर सारी बाधाओं को पार करना है।

मैं अब रांची विश्‍वविद्यालय के मोराबादी परिसर में स्वयं ज्‍यादा समय दुंगा ताकि किसी भी समस्‍या का त्‍वरित निदान हो सके। सारे शिक्षकों एवं डीन ने कुलपति के इस बात पर प्रसन्‍नता जाहिर की और पूर्णसहयोग करने की बात कही।

लायब्रेरियन, कंप्‍यूटर ऑपरेटर, लैब आसिस्‍टेट वअन्‍य स्‍टाफ की मांग :   फिलॉस्‍फी की डॉ. उषा किरण, पीजी इतिहास विभाग के डॉ. राजकुमार समेत कई विभागों के हेड एवं शिक्षकों ने कुलपति से मांग की कि उनके यहां लायब्रेरियन नहीं हैं इस कारण से छात्रों का पठन पाठन बाधित होता है। वहीं बायोटेक एवं पीजी साईंस विभागों के शिक्षकों ने लैब टेक्निशियन की कमी का मुद्दा उठाया। कुलपति ने जल्‍द ही इस कमी को दूर करने का आश्‍वासन दिया और कहा कि लैअ टेक्निशियनों एवं लैब असिस्‍टेंट के लिये हम बीआइटी से उन्‍हें हैंडलिंग एवं संचालन का समुचित प्रशिक्षण भी दिलवायेंगे।
पोलिटिकल साइंस के प्राध्‍यापक डॉ. जेपी खरे ने समय पर प्रोमोशन न होने की बात कही। एंथ्रोपोलॉजी के डॉ. दिनेश कुमार व अन्‍य विभागों के हेड ने शिक्षकों की कमी की बात कही। कुलपति ने कहा कि हमें 178 नये शिक्षक मिले हैं और जल्‍द ही यह समस्‍या दूर हो जायेगी।

कैंपस के सारे विभागों को किया जायेगा वाई फाई से लैस:

कुलपति ने कहा कि बीएसएनएल से हमारी बात चल रही है रहम जल्‍द ही सभी विभागों को वाइ फाई इंटरनेट से लैस करेंगे। कंप्‍यूटरों की कमी भी दूर की जायेगी। अच्‍छे पठन पाठन के माहौल के लिये आधुनिक सुविधाओं से लैस होना आवश्‍यक है।

कुलपति ने सभी शिक्षकों से आह़वान किया कि आप रिसर्च पर जोर दें एवं छात्रों को गुणवत्‍तपूर्ण शिक्षा दें। उनमें कक्षाओं में आकर पढने की लालसा जगायें। इंटरनेट और गुगल से पढाई से छात्रों को गुणवत्‍त प्राप्‍त नहीं होती।

इस बैठक का संचालन रांची विश्‍वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. मुकुन्‍द चंद्र मेहता ने किया। वहीं धन्‍यवाद ज्ञापनकरते हुये सांईंस डीन डॉ. कुनीर कंदील ने कहा कि रांची विश्‍वविद्यालय का इतिहास बहुत ही गौरव शाली रहा है।

हमें एक अपने कुलपति के नेतृत्‍व में फिर से उस गौरवशाली इतिहास को दुहराना है। इस अवसर पर सभी शिक्ष्‍कों, डीन के अलावा परीक्षा नियंत्रक डॉ. आशीष झा, डिप्‍टी रजिस्‍ट्रार 1 डॉ. प्रीतम कुमार, डिप्‍टी डायरेक्‍टर वोकेशनल डॉ. स्‍मृति सिंह,डीएसडब्‍ल्‍यू डॉ. आर. के. शर्मा , एफ.ओ. .के.ए.एन. शाहदेव, एफ.ए. श्री देबाशीष गोस्‍वामी व अन्‍य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *