स्वास्थ्य मंत्री ने किया रिम्स में जेनेटिक्स एंड जिनोमिक्स विभाग का शुभारंभ

जिनोम सिक्वेसिंग मशीन की शुरुआत होने से अब 72 घंटे में पता चलेगा कोरोना के वेरियंट

RANCHI: स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता बुधवार को रिम्स के एकेडमिक भवन में जेनेटिक्स एंड जिनोमिक्स विभाग का शुभांरभ करने के साथ ही जिनोंम सिक्वेसिंग मशीन का भी उद्घाटन किया।

इस मौके पर रिम्स निदेशक डॉ कामेश्वर प्रसाद,कांके विधायक समरी लाल, रांची विवि की प्रति कुलपति डॉ कामिनी कुमार, पूर्व निदेशक एवं शासी परिषद के सदस्य डॉ जगन्नाथ प्रसाद, डॉ अशोक कुमार प्रसाद, डीन डॉ विवेक कश्यप, चिकित्सा अधीक्षक  डॉ हिरेन्द्र बिरुआ, उपाधीक्षक डॉ शैलेश त्रिपाठी, डॉ डीके सिन्हा, डॉ सीबी सहाय सहित अन्य चिकित्सक उपस्थित थे।

इस मौके पर स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि रिम्स में आज जेनेटिक्स एंड जिनोमिक्स विभाग सहित जिनोम सिक्वेसिंग मशीन का भी शुभारंभ किया है। इस मशीन से कोरोना के वेरियंट काी जांच 72 घंटे के अंदर कर लिया जायेगा। इससे कोरोना के मरीज के इलाज में काफी सहुलियत होगी।

साथ ही सिकल सेल एनिमिया, न्यूरोलॉजी संबंधी जांच और डीएनए का भी जांच हो सकेगा। इस मशीन के आ जाने से झारखंड में स्वास्थ्य के क्षेत्र में काफी बदलाव होगा। इस मशीन में एक साथ 384 स्लॉट की जांच एक साथ हो सकेगा।

एक प्रश्न के उत्तर में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि झारखंड में कोरोना के बुस्टर डोज की योजना को राज्य हित में  केन्द्र सरकार से 60-40 की जगह 90-10 योजना करने की मांग की गयी है। हम आशा करते हैं  जल्द ही इस पर केन्द्र सरकार निर्णय लेगी। राज्य में कोरोना के बुस्टर डोज को निःशुल्क देने पर केन्द्र तैयार नहीं है। स्वास्त्य मंत्री ने कहा कि मेरे रहते स्वा्स्थ्य कर्मियों को वाजिब हक से वंचित नहीं होना होगा। फ्रंट लाइन वर्कर को लेकर आपदा प्रबंधन विभाग के फंड से 150 करोड़  रिलीज किया गया है।

शिलापट्ट पर नाम नहीं होने पर विधायक समरी लाल बिफरे

कांके विधायक समरी लाल उस समय काफी नाराज हो गये जब शिलापट्ट पर उनका नाम नहीं लिखा गया था उन्होंने रिम्स निदेशक को इस तरह की गलती दूबारा नहीं करने की हिदायत भी दी। काफी मान मन्नौवल के बाद स्वास्थ्य मंत्री की पहल पर मामला शांत हुआ। वहीं समरी लाल ने गुरुवार दो बजे तक का रिम्स निदेशक को मोहलत दी है शिलापट्ट पर नाम लिखाने का अन्यथा इसे विधानसभा में उठाने की बात कही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *