सफेद दाग न छूआछूत की बीमारी और न ही गंभीर,इसका इलाज पूरी तरह संभवःडॉ राजेश कुमार

RANCHI: मुंबई के ब्रिज कैंडी अस्पताल के डर्माटोलॉजिस्ट डॉ राजेश कुमार ने कहा कि सफेद दाग नहीं छूआछूत की बीमारी और न ही कोई गंभीर बीमारी है। इसका इलाज अत्याधुनिक लेजर, फोटोथेरेपी और सर्जरी से पूरी तरह संभव है।

विटीलिगो डे के अवसर पर रविवार को होटल बीएनआर चाणाक्या में आइएडीवीएल(इंडियन एसोसिएशन ऑफ डर्माटोलॉजिस्ट्स,वेनेरियोलॉजिस्ट्स एंड लेप्रोलॉजिस्ट्स, झारखंड शाखा द्वारा आयोजित एक प्रशिक्षण कार्यक्रम में देश भर से त्वचारोग विशेषज्ञों ने भाग लिया।

इस कार्यक्रम में भाग लेने आये डॉ राजेश ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि सफेद दाग एक आटो इम्यून बीमारी है यह किसी अंग को प्रभावित नहीं करता है। शरीर में रंग बनाने वाली कोशिका मेलेनोसाइट की कमी होने के कारण सफेद दाग हो जाता है। इसके कमी होने के कारण पूछे जाने पर डॉ राजेश ने बताया कि इसके कारण का  अभी तक पता नहीं चल पाया है।

इलाज के संबंध ने बताया कि विशेषज्ञ त्वचारोग से इसका इलाज कराने पर कम से कम तीन माह और ज्यादा से ज्यादा तीन साल का समय लगता है। यह इलाज शरीर के कितने बड़े हिस्से में फैला है इस पर निर्भर करता है। डॉ राजेश ने कहा कि कभी भी सफेद दाग का इलाज  वैसे लोगों के विज्ञापन देख कर नहीं कराना चाहिए जो सफेद दाग का इलाज सौ फीसदी करने का दावा करता है।

गारंटी देने वाले फर्जी डॉक्टर के झांसे में नहीं जाना चाहिए। इनसे सावधान रहें। प्रशिक्षण कार्यक्रम में अन्य विशेषज्ञों ने भी सफेद दाग के अत्याधुनिक इलाज एवं इससे संबंधित भ्रांतियों को दूर करने के बारे में विस्तार से जानकारी दी। एम्स, नई दिल्ली के वरीय त्वचारोग विशेषज्ञ डॉ एम.रामम ने ल्यूकोडर्मा के मरीजों के मानसिक एवं सामाजिक परेशानियों के बारे में विस्तार से चर्चा की।

बंगलुरु से आये डॉ एपी होल्ला ने सफेद दाग के अत्याधुनिक इलाज एवं मेलानोसाइट ट्रांस प्लांट सर्जरी के बारे में जानकारी दी। कोलकाता के डॉ सुदीप दास, डॉ निलेन्दु शर्मा एवं डॉ  अनुपम दास ने विभिन्न प्रकार के ल्यूकोडर्मा के इलाज के अत्याधुनिक उपचार के बारे में विस्तार से चर्चा की। झारखंड आइएडीवीएल के अध्यक्ष डॉ एके झा एवं  सचिव डॉ रविशंकर द्धिवेदी ने प्रसिक्षण कार्यकम में भाग लेने वाले सभी त्वचा रोग विशेषज्ञों को धन्यवाद दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *