झारखंड में महिलाओं के उचित देखभाल और स्वास्थ्य के प्रति राज्य सरकार गंभीरःस्वास्थ्य मंत्री

 

स्तन एवं सर्वाइकल कैंसर उन्मूलन शिविर में 210 महिलाओं को गर्भाशय ग्रीवा की सूजन ख़त्म करने की दी गयी  मुफ्त दवा 

कैंप में आई सभी 351 महिलाओं को आयरन फोलिक एसिड और कैल्शियम की एक महीने की खुराक मुफ्त 

JAMSHEDPUR : वीमेन डॉक्टर्स विंग आई. एम. ए. झारखण्ड एवं स्वास्थ्य विभाग झारखण्ड सरकार के संयुक्त तत्वधान में “स्तन एवं सर्वाइकल कैंसर उन्मूलन शिविर” का आयोजन रविन्द्र भवन, जमशेदपुर में किया गया।

झारखण्ड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता और राष्ट्रीय आई. एम. ए. के अध्यक्ष डॉ. सहजानंद प्रसाद सिंह एवं विधायक सरयू राय के कर कमलों से दीप प्रज्वलित कर शिविर का उद्घाटन किया गया।

इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री  बन्ना गुप्ता ने कहा कि राज्य सरकार झारखंड में महिलाओं के उचित देखभाल और स्वास्थ्य के प्रति गंभीर है, हमारी सरकार महिलाओं के सुरक्षित स्वास्थ्य और बीमारियों से लड़ने के लिए विभिन्न तरीको से प्लान बनाकर कार्य कर रही हैं, राज्य सरकार ने संकल्प लिया है कि सर्वाइकल कैंसर को जड़ से खत्म करेंगे, उन्होंने बताया कि महिलाओं के सुरक्षित प्रसव और प्रसव पूर्व और प्रसव के बाद उनके जीवन और शिशु का उचित ख्याल रखने के लिए भी कार्ययोजना तैयार कर कार्य कर रही है.

इस मेगा महिला स्वास्थ्य शिविर में मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, दिल्ली की प्रशिद्ध स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. कनिका गुप्ता की टीम द्वारा शिविर में आने वाले सभी महिला मरीजों की जाँच की गई एवं इसके साथ ही 12 महिलाओं में सर्वाइकल प्री-कैंसर पाया गया जिन्हें कैंप स्थल पर ही कोल्पोस्कोप गाइडेड क्रायो ट्रीटमेंट दे कर उन्हें कैंसर से मुक्त किया गया झारखण्ड की 30 सरकारी स्त्री रोग विशेषज्ञों को सर्वाइकल प्री-कैंसर की डिजिटल वीडियो कॉलपोस्कॉप से जाँच एवं क्रायो से उपचार का प्रशिक्षण भी प्रदान कराया गया।

कैंप में कुल 351 मरीजों की जाँच की गई। जिनमें से कुल 210 महिलाओं में जेनाईटल इन्फेक्शन पाया गया। 12 महिलाओं में सर्वाइकल प्री-कैंसर पाया गया जिन्हें कैंप स्थल पर ही कोल्पोस्कोप गाइडेड क्रायो ट्रीटमेंट दे कर उन्हें कैंसर से मुक्त किया गया। शिविर में आने वाली सभी महिलाओं को 1 महीने की आयरन फोलिक एसिड एवं कैल्शियम की गोलियां मुफ्त बांटी गयी। जननांग से सफ़ेद स्त्राव यानी कि लुकोरिया से ग्रसित सभी महिलाओं को Kit 2 एवं Kit 6 की गोलियां मुफ्त में बांटी गयी।

भारत में महिलाओं में होने वाले कैंसर का 44.2% ब्रेस्ट एवं सर्वाइकल कैंसर का है। भारत में प्रति घंटे 7 महिलाओं की मृत्यु सर्वाइकल कैंसर से तथा ब्रेस्ट कैंसर से 10 महिलाओं की मृत्यु होती है। सर्वाइकल कैंसर एक प्रीवेंटेबल कैन्सर है एवं शुरुआती दौर पर इसका पता लगने पर पूरी तरह से इलाज संभव है।

डॉ भारती कश्यप, राष्ट्रीय सह-अध्यक्ष विमेन डॉक्टर्स विंग, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने बताया
हमारे 2015 से चल रहे सर्वाइकल कैंसर उन्मूलन अभियान को एक नई गति और दिशा मिली है हमने इस में ब्रेस्ट कैंसर स्क्रीनिंग को भी जोड़ा है।
2015 में जब हमने सर्वाइकल कैंसर उन्मूलन अभियान विमेन डॉक्टर्स विंग झारखंड के बैनर तले पूरे झारखंड में शुरू किया था तब से अब तक हम तीन दिशा में काम कर रहे हैं पहला है रूरल एरिया में महिला स्वास्थ शिविर का आयोजन करना, सभी सरकारी अस्पतालों के इंफ्रास्ट्रक्चर के सुदृढ़ीकरण में मदद करना और सरकारी जो महिला रोग विशेषज्ञ हैं उनको सर्वाइकल कैंसर स्क्रीनिंग और सर्वाइकल प्री-कैंसर के उपचार का प्रशिक्षण दिलवाना। झारखण्ड के 23 सदर अस्पताल में से 11 दर अस्पतालों में हम सर्वाइकल कैंसर की जाँच एवं उपचार की मशीन लगाने में सफल भी हुए और मैंने खुद रांची सदर अस्पताल में अपने वित्तीय सहयोग से इस मशीन को लगाया। कई बार अमेरिका, दिल्ली और कोलकाता के कैंसर स्त्री रोग विशेषज्ञों से सरकारी स्त्री रोग विशेषज्ञों को प्रशिक्षण भी दिलवाया।

प्रजनन क्षमता वाली ऐसी महिलाओं की झारखंड में संख्या 270000 है।
हमने  स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता जी से बात की और उन्हें सारी बातों को बताया और राष्ट्रीय स्तर के
कई कैंसर स्त्री रोग विशेषज्ञओ साथ कई वेबीनार भी किए।
2021 में ही हमारे सुझाव पर अमल करते हुए  स्वास्थ्य मंत्री ने प्रजनन क्षमता वाली हाई रिस्क केटेगरी और संभावित लक्षण वाली 6% महिलाओं की सर्वाइकल कैंसर की स्क्रीनिंग को अनिवार्य कर दिया था।
इसके अलावा हमने स्वास्थ्य मंत्री से अनुरोध कर सुरक्षित मातृत्व योजना के अंतर्गत आने महीने के हर 9 तारीख को आने वाली ऐसी गर्भवती महिलाओं और उनके साथ में आने वाली परिवार की अन्य महिलाओं के सर्वाइकल कैंसर की स्क्रीनिंग को भी अनिवार्य बनवाया जो हाइ रिस्क कैटेगरी की है या उनमें कोई संभावित लक्षण है।
इसके बाद पूरे राज्य में द्रुत गति से लक्ष्य के आधार पर सर्वाइकल कैंसर की स्क्रीनिंग शुरू हुई थी और नतीजा सामने है कि 50% यानि 127000 प्रजनन छमता वाली ऐसी महिलाए जो हाई रिस्क या फिर संभावित लक्षण वाली है उनकी हम 2021-22 में कैंसर स्क्रीनिंग कर चुके हैं और जरूरत मंदों का ईलाज भी हो चूका है। 2022-23 में हमें आशा ही नहीं बल्कि पूरा विश्वास है कि प्रजनन छमता वाली महिलाए जो हाई रिस्क या फिर संभावित लक्षण वाली है ऐसी 2,70,000 महिलाओं की जाँच एवं ईलाज के लक्ष्य को हम पूरी तरह से प्राप्त कर सकेंगें। वह दिन दूर नहीं जब डब्ल्यूएचओ विकासशील देशों के लिए झारखंड मॉड्यूल अपनाएगा

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खबरें एक नजर में….