कांग्रेस प्रदेश प्रभारी द्वारा आचार संहिता उल्लंघन मामले में प्रदेश भाजपा ने राज्य निर्वाचन आयुक्त से की शिकायत

RANCHI: प्रदेश भाजपा ने आज राज्य की सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस के खिलाफ निर्वाचन आयोग पहुँचकर शिकायत दर्ज कराते हुए कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी श्री अविनाश पांडेय पर पंचायत चुनाव आचार संहिता उल्लंघन केलिये एफआईआर दर्ज करने एवं पंचायत चुनाव सम्पन्न होने तक उन्हें झारखंड आने से रोक लगाने की मांग की।

भाजपा प्रतिनिधिमंडल में प्रदेश मंत्री सुबोध सिंह गुड्डू,प्रदेश मीडिया प्रभारी शिवपूजन पाठक ,प्रवक्ता कुणाल षाड़ंगी,अविनेश कुमार सिंह एवम प्रदेश सह मीडिया प्रभारी योगेंद्र प्रताप सिंह,विधि प्रकोष्ठ के अधिवक्ता सुधीर श्रीवास्तव शामिल थे।

ज्ञापन में पार्टी ने कहा कि 4मई 2022 को राजधानी रांची में प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडेय की उपस्थिति में कांग्रेस पार्टी की महत्वपूर्ण बैठक सम्पन्न हुई। बैठक के उपरांत श्री अविनाश पांडेय ने जो घोषणा की वह पूरी तरह से चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन है।

भाजपा ने अखबारों में प्रमुखता से छपी खबरों का हवाला देते हुए अविनाश पांडेय के बयानों की पुष्टि की जिसमे उन्होंने घोषणा की है कि “कांग्रेस का प्रयास होगा कि पंचायत चुनाव में जीत कर आये जन प्रतिनिधियों को पार्टी में जगह दी जाएगी ,ताकि जनप्रतिनिधियों के अनुभवों का उपयोग संगठन की मजबूती में किया जा सके।”

यह घोषणा तब हुई जब त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की प्रक्रिया चरम पर है। अतः इस प्रकार की घोषणा सीधे तौर पर न सिर्फ प्रत्याशियों को बल्कि मतदाताओं को भी लोभ, लालच देने के जैसा है। यह चुनाव आचार संहिता का घोर उल्लंघन है।

कांग्रेस पार्टी राज्य में सत्तारूढ़ है इसलिये इस घोषणा में लोभ,लालच के साथ भय और दबाव भी छिपा हुआ है,जो किसी प्रकार से विधिसम्मत नही है।
इसलिये पार्टी ने मांग किया कि इस मामले मेंकांग्रेस के झारखंड प्रदेश प्रभारी श्री अविनाश पांडेय पर तत्काल न सिर्फ आदर्श चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के मामले में प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया जाए बल्कि पंचायत चुनाव के अंतिम परिणाम घोषित होने तक कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी को झारखंड आने से रोकने का भी आदेश दिया जाय।ताकि राज्य की जनता एवम प्रत्याशी त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव 2022 में निर्भीक होकर अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *