अपनी नाकामियों से घिरी है हेमंत सरकारः दीपक प्रकाश

भाजपा जज नही ,राज्य की कर रही चौकीदारी

RANCHI: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद दीपक प्रकाश की अध्यक्षता में आज प्रदेश कार्यालय में कोर कमिटी की बैठक सम्पन्न हुई, जिसमे नेता विधायकदल एवम पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवम पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास,केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा,क्षेत्रीय संगठन महामंत्री नागेन्द्र नाथ त्रिपाठी,प्रदेश संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह ,पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ रवींद्र कुमार राय,डॉ दिनेशानंद गोस्वामी, प्रदेश उपाध्यक्ष सांसद सुनील सिंह,विधायक नीलकंठ सिंह मुंडा,अनुसूचित जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं सांसद समीर उरांव शामिल हुए।

बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद दीपक प्रकाश ने कहा कि कोर कमिटी में राज्य के वर्तमान राजनीतिक परिस्थितियों, सरकार की नाकामियों पर चर्चा हुई।

श्री प्रकाश ने कहा कि यह सरकार अपनी नाकामियों और विफलताओं से घिरी है। इस सरकार ने भ्रष्टाचार की सारी हदें पार कर दी है।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी भाजपा को राज्य की जनता ने विपक्ष की भूमिका सौंपी है।और पार्टी उसका ईमानदारी से निर्वहन कर रही।
उन्होंने कहा कि भाजपा जज,पुलिस नही बल्कि राज्य की सुरक्षा में चौकीदार है। हम राज्य की चौकीदारी कर रहे।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी जज तो सवा तीन करोड़ जनता है जो समय पर आपको सजा सुनाएगी। भाजपा मजबूत विपक्ष की भूमिका में जनता को आपकी नाकामियां बता रही।

उन्होंने कहा कि यह सरकार बताए कि मुख्यमंत्री जी ने अपने नाम पर अपनी कलम से कैसे खान का लीज ले लिया,एक उद्योग मंत्री के रुप मे पत्नी को आद्योगिक भूमि आवंटित कर दिया,अपने भाई,अपने प्रतिनिधि को भी खनिज के पट्टे दे दिए। ऐसे इतिहास रचने का जवाब जनता मांग रही ,जिसे देना पड़ेगा। और सरकार को इसका जवाब जनता को देना चाहिये। यह राज्य किसी परिवार की जागीर नही बल्कि सवा तीन करोड़ जनता की अमानत है। जनता ने राज्य सरकार को बड़ी उम्मीद से सेवा का अवसर दिया । लेकिन सारी उम्मीदें अब टूट गई। यह गठबंधन सरकार ठगबंधन ही साबित हुई।

उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव में इस सरकार ने राज्य के पिछड़ा समाज को धोखा दिया। जनजाति समाज को जाति प्रमाणपत्र से धर्म का कॉलम हटाकर धोखा दिया।
यह सरकार जनविरोधी,पिछड़ा विरोधी,महिला विरोधी,दलित विरोधी सरकार है जिसने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *