महंगाई नियंत्रण में विफल साबित हुई केंद्र सरकार : रामेश्वर उरांव

Ranchi: झारखंड के वित्त तथा खाद्य आपूर्ति डॉ रामेश्वर उरांव ने कहा है कि केंद्र सरकार महंगाई को नियंत्रित करने में पूरी तरह से विफल साबित हुई है। केंद्र सरकार के पास महंगाई पर काबू पाने के लिए कोई रोड मैप नहीं है, जबकि बढ़ती महंगाई से आम आदमी त्रस्त हैं। गरीब और मध्यम वर्गीय लोगों के लिए परिवार चलाना अब काफी मुश्किल हो गया है। स्थिति इतनी खराब हो गयी है कि अब लोग भुंजिया बनाने से बच रहे हैं,क्योंकि उसमें सरसो तेल ज्यादा लगेगा, उसकी जगह सिर्फ चोखा खाने को विवश हैं।

वित्तमंत्री ने गुरुवार को रांची में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पेट्रोल-डीजल की कीमत में बढ़ोत्तरी से नॉक-ऑन इफेक्ट होता है, हर आवश्यक वस्तु के परिवहन लागत में बढ़ोत्तरी हो जाती है। जिसके कारण हर चीज की कीमत बढ़ रही है। इससे पूरी अर्थव्यवस्था प्रभावित हो रही है।केन्द्र सरकार जिसकी जिम्मेदारी है मूल्य नियंत्रण करने की वो कुछ और काम में लगे हुए हैं। जनता की तकलीफों से केन्द्र की सरकार को कुछ लेना देना नहीं है।अर्थशास्त्र की भाषा में अगर कहें तो केन्द्र सरकार पॉकेटमारी कर रही है।

झारखंड में गरीब परिवारों को स्कूटी-मोटरसाईकिल पर मिलने वाली पेट्रोल सब्सिडी मामले की सफलता के संबंध में पूछे गये एक सवाल के जवाब में डॉ रामेश्वर उरांव ने कहा कि झारखंड सरकार द्वारा शुरू की गयी पेट्रोल सब्सिडी योजना को लेकर भी लोगों को दिग्भ्रमित किया जा रहा है। इसलिए सब्सिडी लेने वाले लोगों की संख्या कम हुई है। लोगों के बीच यह भ्रम फैलाने की कोशिश की गयी कि महीने-महीने राशन कार्ड के आधार पर सब्सिडी लेने से राशन कार्ड से मिलने वाले अनाज को बंद कर दिया जाएगा। वहीं दूसरी बात यह सामने आयी है कि कई लोगों ने सेकेंड हैंड बाइक लिया है और वाहन के मालिक का नाम ट्रांसफर नहीं हो पाया है, इस कारण भी राशन कार्ड रहने के बावजूद उन्हें सब्सिडी योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

एक अन्य प्रश्न के उत्तर में वित्तमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार येन-केन प्रकारेण गैर बीजेपी शासित राज्यों में सरकार अस्थिर करने का प्रयास कर रही है।
इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोरनाथ शाहदेव और डॉ0 राजेश गुप्ता छोटू ने बताया कि मार्च महीने में थोक मंहंगाई की दर 14.55 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच चुकी है,जबकि फरवारी में यह 13.11 प्रतिशत तक पहुंच गई थी। खाद्य पदार्थाें पर थोक महंगाई दर भी 8.47 प्रतिशत से बढ़कर 8.71 फीसदी पर पहुंच गयी है। वहीं खुदरा महंगाई 17 माह के उच्च स्तर पर 6.95 प्रतिशत तक पहुंच गयी है।आज के दिन राजधानी राँची में पेट्रोल की कीमत प्रति लीटर 109 रुपये और डीजल की कीमत 102 रुपये से अधिक हो गयी है। बढ़ती महंगाई के खिलाफ पार्टी की ओर से राज्यव्यापी आंदोलन चलाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *