मोबाइल गुम हो जाने पर अब लिखी जाएगी FIR, अगर पुलिस करे इनकार तो होगा एक्शन

मुंबई । मुंबई पुलिस (Mumbai Police) के पुलिस कमिश्नर (police commissioner) ने अपने ताजा आदेश में में कहा कि मोबाइल (Mobile) गायब होने पर पुलिस स्टेशनों में FIR दर्ज होगी. संजय पांडे ने अपने आदेश में कहा कि अगर पुलिस वाले FIR दर्ज करने से मना करते हैं तो उनके खिलाफ IPC के सेक्शन 168-A के तहत कार्रवाई होगी.

अब तक होती थी बस मिसिंग रिपोर्ट
मुंबई पुलिस अभी तक मोबाइल के गायब होने के मामले में सिर्फ मिसिंग रिपोर्ट दर्ज करती थी. ऐसे में सवाल ये उठता है कि पुलिस ऐसा क्यों करती थी और मिसिंग रिपोर्ट और FIR में क्या फर्क होता है. इस मामले को लेकर अधिकारी से बात की गई तो उनका कहना था कि मिसिंग रिपोर्ट में पुलिस के लिए जांच करना जरूरी नहीं होता है. जैसे अगर किसी का मोबाइल गायब या चोरी हो गया तो उस शख्स को सबसे पहले अपना नंबर शुरू करना होता है इसके लिए मोबाइल कंपनी सामने वाले से पुलिस में शिकायत की रिपोर्ट मांगती है.

ऐसे में पीड़ित शख्स पुलिस से मिली मिसिंग रिपोर्ट की पर्ची सामने वाले को देता और नई सिम मिल जाती है. मिसिंग रिपोर्ट दर्ज करने के बाद आगे जांच करना जरूरी नहीं होता. लेकिन एक बार FIR दर्ज होने के बाद पुलिस को मामले की जांच करनी होगी और पुलिस को अपनी जांच रिपोर्ट भी दाखिल करनी होगी.

रोज होते हैं 200 फोन चोरी
सूत्रों की मानें तो मुंबई में रोजाना 200 से ज्यादा फोन चोरी किए जाते हैं. सबसे ज्यादा फोन मुंबई की लोकल ट्रेनो में चोरी होते हैं. मुंबई लोकल की तीनों लाइनों में रोजाना यात्रा करने वाले लोगों की संख्या 50 लाख से ज्यादा है. ऐसे में चोर बड़ी सफाई से लोगों के फोन पर हाथ साफ करते हैं. अब ये सवाल खड़ा होता है कि इतने चोरी किए गए फोन जाते कहां हैं. सूत्रों का मानें तो ज्यादातर फोन की स्क्रीन और बैटरी निकालने के बाद उसे कबाड़ में फेंक दिया जाता है. बाकी बचे मोबाइलों को सीमा पार बेचा जाता है जिससे वो IMEI (International Mobile Equipment Identity) के जरिए भी खोजे ना जा सकें.

अब जल्दी मिलेंगे खोए मोबाइल
जाहिर है पुलिस कमिश्नर के इस नए आदेश के बाद गायब हुए मोबाइल फोन मिलने की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है. कई बार ऐसी बातें भी सामने आई हैं कि साफ्टवेयर का इस्तेमाल करके उसका IMEI नंबर भी बदल दिया जाता है. ऐसे में आशा है कि पुलिस जब जांच की शुरुआत करेगी तो ये मामले में सामने आएंगे और इसमें शामिल लोग सलाखों के पीछे होंगे.

गौरतलब है कि मोबाइल फोन आज के जीवन का सबसे अहम हिस्सा हैं. फोन में ना केवल आपने फोन नंबर होते हैं बल्कि ढेर सारी पिक्चर, वीडियो और सारी पर्सनल जानकारियां भी रखी होती हैं. आज के समय में फोन के जरिए ही बैंक के ज्यादातर काम किए जाते हैं. ऐसे में किसी के फोन का गायब होना बड़ी परेशानी की बात है. पुलिस कमिश्नर के इस नए आदेश के बाद आने वाल दिनों में लोगों को राहत मिलने की उम्मीद है.