चैत्र नवरात्रि में होगा बड़ा परिवर्तन, शनि-मंगल की युति से इन लोगों की चमकेगी किस्‍तमत

नई दिल्‍ली. हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्र माह(Chaitra month) की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से हिंदू नव वर्ष शुरू होता है. इस दिन को गुड़ी पड़वा भी कहा जाता है, साथ ही इसी दिन चैत्र नवरात्रि का 9 दिवसीय पर्व भी शुरू होता है. इन 9 दिनों में मां दुर्गा के 9 स्‍वरूपों की पूजा (Prayer) की जाती है. घटस्‍थापना की जाती है.

घोड़े पर सवार हो आ रहीं मां दुर्गा
इस साल 2 अप्रैल 2022, शनिवार(Saturday) से चैत्र नवरात्रि शुरू हो रही हैं, जो 11 अप्रैल 2022 तक रहेंगी. इन 9 दिनों में विधि-विधान से मां दुर्गा (Maa Durga) के रूपों की पूजा करनी चाहिए, इससे घर में सुख-समृद्धि (happiness and prosperity) आती है. इस बार मां दुर्गा घोड़े पर सवार होकर आ रही हैं और भैंसे पर प्रस्‍थान करेंगी. माता की इन सवारी को शुभ नहीं माना जाता है. लेकिन इस बार ग्रहों के उलटफेर ने कुछ राशि वालों के लिए इन नवरात्रि को बेहद खास बना दिया है.

इन राशि वालों के लिए बेहद शुभ हैं नवरात्रि
चैत्र नवरात्रि के दौरान 2 बेहद अहम ग्रह राशि बदलने जा रहे हैं. ज्‍योतिष शास्‍त्र के अनुसार इन 9 दिनों में शनि और मंगल का मकर राशि में गोचर हो रहा है. यह दोनों ग्रह एक-दूसरे के शत्रु हैं, लिहाजा एक ही राशि में इनका मिलना कई मुश्किलें पैदा करेगा, यह परिवर्तन कर्क, कन्या और धनु राशि वालों के लिए शुभ नहीं रहेगा और उन्‍हें इस दौरान सतर्क रहना चाहिए. वहीं मेष, मकर और कुंभ राशि वालों के लिए यह बहुत शुभ रहेगा. उन्‍हें यह समय जमकर लाभ कराएगा. अच्‍छी खबरें सुनने को मिलेंगी. करियर-कारोबार में तरक्‍की मिल सकती है.

चैत्र नवरात्रि कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त
चैत्र नवरात्रि के लिए घटस्थापना का शुभ मुहूर्त 2 अप्रैल 2022, शनिवार को सुबह 06:10 बजे से 08:31 बजे तक ही रहेगा. यानी कि घट स्‍थापना के लिए 02 घण्टे 21 मिनट का समय ही मिलेगा.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. हम इसकी पुष्टि नहीं करते है.)