पुष्कर सिंह धामी का तय है उत्तराखंड के फिर एक बार सीएम बनना

नई दिल्‍ली । उत्तराखंड (Uttarakhand) के सीएम (CM) के नाम को लेकर सूत्रों ने अहम दावा किया है. बता दें राज्य में भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने चुनाव में दोबारा सत्ता में वापसी की. वहीं भारतीय जनता पार्टी (BJP) में सीएम के नाम के लिए मंथन जारी है वहीं सूत्रों का दावा है कि पुष्कर सिंह धामी (Pushkar Singh Dhami) रेस में सबसे आगे हैं.

गौरतलब है कि भाजपा ने 10 मार्च को संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के लिए पुष्कर सिंह धामी को सीएम का चेहरा घोषित किया था. हालांकि पुष्कर सिंह धामी खटीमा सीट से चुनाव हार गए थे. गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव में भाजपा दो मुख्यमंत्रियों को बदलने के बाद गई थी. पुष्कर धामी से पहले सत्ता की बागडोर त्रिवेंद्र सिंह रावत और तीरथ सिंह रावत ने संभाला था.

पार्टी ने धामी को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाते हुए चुनाव लड़ा और जीत मिली लेकिन धामी खुद चुनाव हार गए. बताया जा रहा है कि करीब एक दर्जन विधायकों ने धामी के लिए अपनी सीट से इस्तीफे की पेशकश की है. कार्यवाहक मुख्यमंत्री की केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत वरिष्ठ नेताओं के साथ कुछ दिनों पहले दिल्ली में बैठक हुई थी.

हार के बावजूद उत्तराखंड में भाजपा की शानदार जीत के लिए कई पार्टी नेता धामी को श्रेय देते हैं. इसलिए मुख्यमंत्री के मनपसंद चेहरों की लिस्ट में धामी हमेशा विकल्प रहे हैं. अगर पार्टी धामी को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बिठाती है तो छह महीने के अंदर चुनाव जीतना होगा. मुख्यमंत्री के चेहरे से जुड़े असंतोष की आशंका को देखते हुए केंद्रीय नेतृत्व ने राजनाथ सिंह को उत्तराखंड का केंद्रीय पर्यवेक्षक नियुक्त किया है. उम्मीद जताई जा रही है कि अगले हफ्ते के शुरू में मुख्यमंत्री और कैबिनेट मंत्रियों के नाम साफ हो जाएंगे.