महाराष्‍ट्र में फिर बनने को है भाजपा सरकार, इसका सबसे बड़ा कारण है ये

मुंबई । केंद्रीय राज्य मंत्री रावसाहेब दानवे (Raosaheb Danve) ने महाराष्‍ट्र में सत्तारूढ़ महाविकास अघाड़ी गठबंधन (Maha Vikas Aghadi, MVA) की सरकार को लेकर बड़ी बात कही है। उन्‍होंने शिवसेना गठबंधन में विधायकों के भीतर असंतोष पनपने का दावा किया है। उन्‍होंने कहा कि महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महाविकास अघाड़ी गठबंधन के कम से कम 25 असंतुष्ट विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं। केंद्रीय मंत्री के इस दावे से सियासी अटकलों का बाजार गर्म हो गया है।

उन्होंने शिवसेना के दावों को खारिज करते हुए यह भी कहा कि साल 2019 में सीट बंटवारे को लेकर हुई बातचीत में भाजपा की ओर से पूर्व सहयोगी दल को मुख्यमंत्री पद की पेशकश नहीं की गई थी। रावसाहेब दानवे (Raosaheb Danve) ने जालना में संवाददाताओं से कहा कि सत्तारूढ़ महाविकास अघाड़ी गठबंधन के कम से कम 25 विधायक हमारे संपर्क में हैं।

भाजपा नेता (Union Minister of State Raosaheb Danve) ने कहा कि ये सभी 25 विधायक मौजूदा महाविकास अघाड़ी गठबंधन नाखुश हैं। हालांकि उन्होंने विधायकों के नामों का खुलासा नहीं किया। साथ ही शिवसेना पर निशाना साधते हुए भाजपा नेता ने आरोप लगाया कि वह हिंदुत्ववादी विचारधारा से भटक गई है। शिवसेना को साल 2019 के चुनावों में पीएम मोदी के कारण वोट मिले लेकिन उसने भाजपा की पीठ में छुरा घोंप दिया।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यह बालासाहेब ठाकरे की शिवसेना नहीं वरन उद्धव ठाकरे और अब्दुल सत्तार की सेना है। बता दें कि अब्दुल सत्तार राज्य सरकार में मंत्री हैं। दानवे ने कहा कि जब साल 2019 में भाजपा नेताओं (अमित शाह, देवेंद्र फडणवीस, आशीष शेलार) और शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे के बीच मातोश्री में चर्चा हुई थी तब मैं वहां मौजूद था। इस बैठक में मुख्यमंत्री पद को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई थी। इसके साथ ही उन्होंने शिवसेना के दावे का खंडन क‍र दिया कि सीएम पद को तय अंतराल के बाद बदलने पर सहमति बनी थी।