तीसरी मंजिल से गिरकर युवाक्की मोंत

(भोपाल) : भोपाल  में एक अपार्टमेंट की तीसरी मंजिल से गिरे वेटरनरी डॉक्टर के बेटे ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। उसे बुधवार को हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था। गुरुवार रात उसकी मौत हो गई। इस युवक की मौत एक पहेली बन गई है। अभी तक ये स्पष्ट नहीं हुआ है कि ये हादसा है या उसने खुद छलांग लगाई या फिर ये कोई साजिश है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

जानकारी के मुताबिक शाहजहांनाबाद स्थित मीनाक्षी अपार्टमेंट की तीसरी मंजिल के फ्लैट में वेटरनरी डॉक्टर संगीता शर्मा रहती हैं। वह जहांगीराबाद पशु चिकित्सालय में पदस्थ हैं। उनके तीन बेटे हैं। बड़ा बेटा गिरीश शर्मा (30) बुधवार रात को घर पर था। साथ में उसके दो जुड़वा भाई भी थे। रात करीब सवा 8 बजे कमरे से गिरीश बाहर निकलकर बालकनी में पहुंचा। थोड़ी देर बाद लोगों ने उसे नीचे लहूलुहान हालत में पड़ा देखा। परिजन उसे तुरंत ही अस्पताल लेकर पहुंचे। दो दिन तक चले उपचार के बाद गुरुवार की रात उसने दम तोड़ दिया।

हादसे के वक्त वह सिर्फ अंडरगारमेंट पहने था, इसलिए पुलिस यह भी मान रही कि घटना से पहले उसका किसी से किसी मुद्दे पर विवाद हुआ होगा। पुलिस को सुसाइड नोट भी नहीं मिला है। गिरीश करीब 36 फीट ऊंचाई से नीचे गिरा था। शाहजहांनाबाद टीआई जहीर खान ने बताया कि प्रारंभिक जांच में खुदकुशी का मामला लग रहा है।

माता – पिता से अलग रह रहा था युवक
बताया गया कि गिरीश के पिता डॉ. उमेन्द्र शर्मा हमीदिया अस्पताल में पदस्थ हैं। वह पत्नी से अलग रह रहे हैं। पत्नी संगीता अपने तीनों बेटों के साथ शाहजहांनाबाद इलाके में रहती हैं। संगीता का पति से विवाद चल रहा है। पुलिस जांच कर रही कि कहीं माता-पिता के विवाद के चलते वह तनाव में तो नहीं आया। पुलिस अब परिजनों के बयान लेगी।