इजरायल ने वायुमंडल के बाहर ही मिसाइल मार गिराया, ऐरो वेपन सिस्टम के परीक्षण में सफल

तेल अवीव। इजरायल (Israel) ने मंगलवार यानी 18 जनवरी 2022 को धरती के वायुमंडल (Atmosphere) के बाहर लंबी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल (ballistic missile) को ध्वस्त कर दिया. इसके लिए उसने एक नए हथियार प्रणाली की टेस्टिंग (Testing of a new weapon system) की. इस प्रणाली का नाम है ऐरो वेपन सिस्टम (Arrow Weapon System).
ऐरो वेपन सिस्टम (Arrow Weapon System) इजरायल की उस रक्षा प्रणाली का हिस्सा है जो दुश्मन की तरफ से आती हुई मिसाइल को हवा ही नहीं अंतरिक्ष में भी तबाह कर सकता है. यानी अगर लंबी दूरी की मिसाइल वायुमंडल की तरफ से आ रही है, तो यह सिस्टम एक मिसाइल छोड़कर उसे धरती से कई सौ किलोमीटर ऊपर ही बर्बाद कर देगा.
इजरायल की सुरक्षा प्रणाली से अब उसे आतंकी समूहों, लेबनान के हिजबुल्ला, फिलिस्तीन के हमास और इरान के करीबी देशों से सुरक्षित करेगी. इजरायल के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि ऐरो वेपन सिस्टम (Arrow Weapon System) के ऐरो-3 इंटरसेप्टर्स ने टारगेट को पहचान कर अंतरिक्ष में ही खत्म कर दिया. यह टेस्टिंग पूरी तरह से सफल रही है.
इजरायल के रक्षा मंत्री बेनी गांट्ज ने कहा कि हम कभी भी पहले कदम नहीं उठाते, लेकिन कोई दुश्मन अगर हमला करेगा तो हम उसे छोड़ेंगे नहीं. यह नई तकनीक है. हम हमेशा तकनीक के मामले में आगे बढ़ रहे हैं. अपने देश की सुरक्षा के लिए हम हर जरूरी कदम उठाएंगे. इस सुरक्षा प्रणाली के सफल परीक्षण के बाद अब इजरायल अपनी रणनीतियों को और मजबूत बना सकता है.
ऐरो वेपन सिस्टम (Arrow Weapon System) को इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्री ने अमेरिकी मिसाइल डिफेंस एजेंसी के साथ मिलकर बनाया है. अमेरिकी मिसाइल डिफेंस एजेंसी के वाइस एडमिरल जॉन हिल ने कहा कि हमने इस परीक्षण के दौरान इस सिस्टम के हर पहलू की जांच की. ये सुरक्षा प्रणाली हर मामले में एकदम सटीक निकली. हमारा इजरायल के साथ पुराना संबंध है, जो लगातार जारी रहेगा.
इजरायल के छोटे रेंज की मिसाइलों से बचाने वाली सुरक्षा प्रणाली ने पिछले साल 11 दिन गाजा पट्टी पर चले युद्ध के दौरान बेहतरीन प्रदर्शन किया था. जिसमें फिलिस्तीनी आतंकी संगठन हमास ने इजरायल 4000 से ज्यादा रॉकेट दागे थे, लेकिन इजरायल के इंटरसेप्टर ने 90 फीसदी से ज्यादा रॉकेट को हवा में ही ध्वस्त कर दिया था.