अमेरिका: बंधक बनाए गए चार लोगों को कराया रिहा, स‍ंदिग्‍ध को मार गिराया

कोलीविले। अमेरिका के टेक्सास (Texas of America) में यहूदियों के एक पूजा स्थल (a Jewish place of worship) में बंधक बनाए गए चार लोगों को कई घंटे के गतिरोध के बाद शनिवार रात को रिहा (Four people held hostage were released) करा लिया गया और सुरक्षाबलों की गोलीबारी में संदिग्ध मारा (Suspect killed in firing by security forces) गया. यह संदिग्ध एक ब्रितानी नागरिक (British citizen) था और पाकिस्तानी तंत्रिका विज्ञानी आफिया सिद्दीकी को रिहा किए जाने की मांग (Demand for release of Pakistani neuroscientist Afiya Siddiqui) कर रहा था, जिसके अलकायदा आतंकवादी समूह से संबंध होने का संदेह है.

एफबीआई की स्वाट टीम ने चलाया था ऑपरेशन
ब्रिटेन के ‘फॉरेन, कॉमनवेल्थ एंड डेवल्पमेंट ऑफिस’ (एफसीडीओ) ने बताया कि उसे ‘टेक्सास में ब्रितानी नागरिक की मौत की जानकारी है और वह स्थानीय प्राधिकारियों के संपर्क में है.’ संदिग्ध व्यक्ति को घटना की लाइवस्ट्रीमिंग (सोशल मीडिया मंच पर सीधा प्रसारण) के दौरान सिद्दीकी को रिहा करने की मांग करते सुना गया, जिसे अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना के अधिकारियों की हत्या के प्रयास के जुर्म में सजा सुनाई गई है. प्राधिकारियों ने बताया कि कोलीविले में कांग्रिगेशन बेथ इजराइल भवन में बंधक बनाए गए एक व्यक्ति को शनिवार को पहले रिहा किया गया और तीन अन्य बंधक एफबीआई की स्वाट टीम के भवन में घुसने के बाद रात करीब नौ बजे बाहर आए.

ऐसे मारा गया हमलावर
हमलावर को मार गिराया गया और एफबीआई के स्पेशल एजेंट इंचार्ज मैट डेसारनो ने बताया कि एक टीम ‘गोलीबारी की घटना’ की जांच करेगी. डलास टीवी स्टेशन डब्ल्यूएफएए से जारी वीडियो फुटेज में लोग पूजा स्थल के एक दरवाजे से भागकर बाहर निकलते देखे गए, इसके महज कुछ सेकंड बाद बंदूकधारी एक व्यक्ति दरवाजा खोलते और फिर उसे बंद करते दिखा. कुछ समय बाद गोलीबारी की आवाज सुनी गई और फिर धमाके की भी आवाज सुनाई दी.

यहूदी पूजा स्थल को ही क्यों चुना?
डेसारनो ने बताया कि बंधक बनाने वाला व्यक्ति विशेष रूप से ऐसे मुद्दे पर केंद्रित था जो सीधे तौर पर यहूदी समुदाय से संबंधित नहीं था और तत्काल इस बात के भी कोई संकेत नहीं मिले हैं कि व्यक्ति किसी बड़ी साजिश का हिस्सा था, लेकिन डेसारनो ने बताया कि जांच एजेंसी ‘हर पहलू से जांच करेगी.’ हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि हमलावर ने यहूदी पूजा स्थल को ही क्यों चुना. कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने पहचान गोपनीय रखने की शर्त पर ‘द एसोसिएटेड प्रेस’ को बताया कि बंधक बनाने वाले ने पाकिस्तानी तंत्रिका वैज्ञानिक आफिया सिद्दीकी की रिहाई की मांग की. टेक्सास की संघीय जेल में बंद सिद्दीकी पर अलकायदा से संबंध होने का संदेह है.

सिद्दीकी से बात करना चाहता था हमलावर
अधिकारियों ने बताया कि संदिग्ध ने यह भी कहा था कि वह सिद्दीकी से बात करना चाहता है. एक अधिकारी ने बंधक के ब्रितानी नागरिक होने की पुष्टि की. डेसारनो ने बताया कि शनिवार की रात व्यक्ति की पहचान कर ली गई लेकिन फिलहाल उसकी पहचान उजागर नहीं की जा सकती. इस संबंध में एक अधिकारी ने बताया कि न्यूयॉर्क शहर में एक रब्बी (यहूदी धार्मिक नेता) को संभवत: बंधक बनाए गए रब्बी का फोन आया था जिसके बाद न्यूयॉर्क शहर के रब्बी ने घटना की जानकारी देने के लिए पुलिस को फोन किया.

आसपास के इलाके से लोगों को निकाला गया
एफबीआई डलास की प्रवक्ता केटी चाउमोंट ने कहा कि पुलिस पूर्वाह्न 11 बजे के आसपास पूजा स्थल पहुंची और उसके तुरंत बाद आसपास के इलाकों से लोगों को निकाला गया. कांग्रिगेशन बेथ इजराइल में शनिवार की प्रार्थना की पूजा स्थल के फेसबुक (अब मेटा) पेज पर लाइवस्ट्रीमिंग हो रही थी. ‘फोर्ट वर्थ स्टार-टेलीग्राम’ की खबर के अनुसार, लाइवस्ट्रीमिंग के दौरान गुस्से में एक शख्स को चिल्लाते और उस दौरान धर्म के बारे में बोलते सुना गया. दिन में दो बजे के आस पास लाइवस्ट्रीमिंग बंद हो गई. बाद में मेटा कंपनी के एक प्रवक्ता ने यह पुष्टि की कि वीडियो को फेसबुक से हटा लिया गया है.

बताया सिद्दीकी को अपनी ‘बहन’
कई लोगों ने लाइवस्ट्रीम के दौरान बंधक बनाने वाले को सिद्दीकी को अपनी ‘बहन’ के रूप में संबोधित करते सुना, लेकिन डलास फोर्ट-वर्थ टेक्सास में काउंसिल ऑन अमेरिकन इस्लामिक रिलेशंस (सीएआईआर) के कार्यकारी निदेशक फैजान सैयद ने ‘द एसोसिएटेड प्रेस’ को बताया कि सिद्दीकी का भाई मोहम्मद सिद्दीकी इसमें शामिल नहीं था. सीएआईआर के ह्यूस्टन चैप्टर के बोर्ड के अध्यक्ष एवं मोहम्मद सिद्दीकी के कानूनी सलाहकार जॉन फ्लॉयड ने कहा, ‘हमलावर का डॉ. आफिया सिद्दीकी, उसके परिवार या डॉ आफिया के लिए न्याय की मांग करने वाले वैश्विक अभियान से कोई संबंध नहीं है.’

गवर्नर ग्रेग एबॉट ने किया ट्वीट
गवर्नर ग्रेग एबॉट ने ट्वीट किया, ‘प्रार्थनाएं सुन ली गईं. सभी बंधक जीवित और सुरक्षित हैं.’ एबॉट के इस ट्वीट से पहले प्रार्थना स्थल में गोलियां चलने जैसी आवाजें सुनी गई थीं. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने शनिवार शाम ट्वीट किया कि राष्ट्रपति जो बाइडन को इस बारे में जानकारी दे दी गई है और उन्हें वरिष्ठ अधिकारियों से पल-पल की सूचना मिल रही है. इजराइल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने कहा कि वह स्थिति पर करीब से नजर रखे हुए हैं. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘हम बंधकों और बचाव दल की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करते हैं.’