इस वजह से झढ़ने लगते हैं बाल, कहीं आप भी तो नही करते यह गलतियां?

नई दिल्ली। आज कल बालों से जुड़ी समस्या बहुत ही आम होती जा रही है। हर व्यक्ति अलग-अलग रूप में इसका सामना कर रहा है। अगर बात डाइट की हो तो उससे भी बालों में असर पड़ता है। बाल और सिर से संबंधित समस्याओं की कई वजह हो सकती है। जैसे- अधिक केमिकल वाले प्रोडक्ट्स इस्तेमाल करना, हार्मोन में बदलाव, त्वचा की स्थिति और बालों की देखभाल में लापारवाही करना इत्यादि।

सूर्या ब्रासिल की संस्थापक और सीईओ क्लेलिया सेसिलिया एंजेलन सलाह देते हुए कहती हैं “बालों में सिलिकॉन वाले शैम्पू, मिनरल ऑयल या फिर बालों में खराब और खतरनाक रंगों का इस्तेमाल कभी भी नहीं करना चाहिए।” इससे बाल जल्दी टूटते हैं, बालों का दो मुहा होना, फ्रिज होना ये सारी परेशानी शामिल है। लेकिन आप अपनी इन आदतों में बदलाव ला कर ठीक कर सकते हैं।

हेयर केयर से जुड़ी कुछ गलतियां और सावधानियां
गीले बालों को रगड़ना या गीले बालों के साथ सोना –
जब बाल भीगे होते हैं, तब जड़ों से कमजोर होते हैं। ऐसे में बालों को तौलिए से कस कर रगड़ने या फिर टाइट चोटी बांधने से बाल टूट सकते हैं। यहा तक कि ट्रैक्शन एलोपेसिया का भी खतरा रहता है। त्वचा विशेषज्ञों और बालों के विशेषज्ञों का सुझाव है कि गीले बालों के साथ सोना भी नहीं चाहिए। उस समय बालों के टूटने की संभावना अधिक हो सकती है।

मास्क/क्रीम को सीधे जड़ पर लगाना –
बालों को चमकदार और मुलायम बनाने के लिए मास्क या क्रीम का इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे उत्पादों को आप सीधा अपने सिर की त्वचा पर न लगाएं। इससे सिर में मौजूद पोर्स बंद हो सकते हैं। जिससे स्कैल्प इन्फेक्शन या रूसी जैसी समस्याएं हो सकती हैं। साथ ही इन प्रोडक्ट्स में केमिकल होता है, जिससे बाल जल्दी टूट सकते हैं। इन उत्पादों को आप बालों में लगाएं न की सिर की त्वचा में। आप बालों के लिए आयुर्वेदिक उत्पादों को अपनाएं। जैसे – मेंहदी, एलोवेरा, आंवला इत्यादि।

बिना झाग वाले शैम्पू –
हमारी ऐसी धारणा बन गई है कि झाग वाले शैम्पू हमारे बालों को अच्छे से साफ करते हैं। लेकिन वास्तव में झाग वाले शैम्पू में सल्फेट मिला होता है। जिससे झाग बनता है और सल्फेट हमारे बालों के लिए बहुत ही ज्यादा खतरनाक है। आप ये सुनिश्चित करें कि जो भी शैंपू आप इस्तेमाल करें वो सल्फेट मुक्त हो।

नोट – उपरोक्त दी गई जानकारी व सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं इन्हें किसी प्रोफेशनल डॉक्टर की सलाह के रूप में न समझें। कोई भी सवाल या परेंशानी हो तो विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।