जब स्कूल कॉलेज बंद तो चुनावी रैलियां क्यों

 पंजाब के डिप्टी सीएम — चुनावी रैलियों पर पाबंदी लगाए केंद्र; जब स्कूल-कॉलेज बंद तो इतनी भीड़ को मंजूरी क्यों?

पंजाब में सेहत मंत्रालय देख रहे डिप्टी सीएम ओपी सोनी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फिरोजपुर रैली से एक दिन पहले केंद्र सरकार से चुनावी रैलियों पर पाबंदी लगाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि जब हम कोरोना फैलने से रोकने के लिए स्कूल-कॉलेज बंद कर रहे हैं तो इतनी रैली में भीड़ इकट्‌ठी करने की छूट क्यों दी जा रही है।

चंडीगढ़ में पत्रकारों से बातचीत में डिप्टी सीएम सोनी ने कहा कि केंद्र ने अभी तक चुनावी रैली या गैदरिंग को लेकर कोई गाइडलाइन जारी नहीं की है। इसलिए हमने कोई कदम नहीं उठाया। हालांकि अब CM चरणजीत चन्नी इस बारे में मीटिंग कर रहे हैं। जिसमें रैलियों पर रोक के बारे में भी फैसला लिया जाएगा।

सख्ती से लागू होंगे आदेश

डिप्टी सीएम ने कहा कि पंजाब में कोरोना मरीजों की गिनती तेजी से बढ़ रही है। इसे रोकने के लिए मास्क अनिवार्य कर दिया गया है। इसके अलावा स्कूल-कॉलेज भी बंद कर दिए गए हैं। म्यूनिसिपल लिमिट के भीतर रात 10 से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू भी लागू कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि इसे सख्ती से लागू करवाया जाएगा, ताकि कोरोना को फैलने से रोका जा सके।

टेस्टिंग बढ़ाई जाएगी

पंजाब में कोरोना फैलते देख सरकार अब टेस्टिंग भी बढ़ाएगी। डिप्टी सीएम सोनी ने कहा कि सेहत विभाग के कर्मचारी स्ट्राइक पर थे, जिसकी वजह से टेस्ट में कमी आई थी। उन्होंने सिविल सर्जनों को आदेश दे दिए हैं कि टेस्टिंग को तुरंत बढ़ाया जाए।