दलित परिवार की मौत पर जिंदा बची भारती बोली:-“दोषियों को फांसी पर लटकते देखना है, सीबीआइ जांच शुरू होना न्याय नहीं।

देवास में नेमावर के एक दलित परिवार 13 मई 2021 से लापता था । 29 जून को सभी के कंकाल नेमावर में खेत से निकले। भारती के परिवार के पांच सदस्य, जिसमे उसकी मां, 3 बहन और भाई की हत्या कर दी गई थी, परिवार में सिर्फ भारती ही जिंदा बची। इस हत्या के मामले की सीबीआई से जांच कराने की सिफारिश की थी। लेकिन भारती का कहना है कि, उसे न्याय चाहिए जो सीबीआई जांच शुरू होने से नही हो जाता वो आरोपियों को फांसी पर लटकते देखना चाहती है। और इसी न्याय की तलाश में भारती ने शनिवार से नेमावर से न्याय यात्रा शुरू कर दी है। यह यात्रा 11 दिन बाद भोपाल के राजभवन पहुंचेगी।

न्याय यात्रा में भारती के साथ विधायक हीरालाल अलावा और सामाजिक संगठन से जुड़े कुछ कार्यकर्ता शामिल है।भारती का कहना है कि वो 7 महीने से भटक रहे थे तब तो सरकार ने सीबीआइ जांच के आदेश नही दिए, जैसे ही यात्रा निकलने का ऐलान किया, तो यह आदेश दे दिया गया। अब जब तक परिवार को न्याय नहीं मिलेगा, यह यात्रा जारी रहेगी, ताकि आगे किसी दलित परिवार के साथ ऐसा न हो।

यात्रा शुरू करने के पहले भारती ने की पूजा।